Skip to main content
TeacherParv: Celebrating Learning

TeacherParv: Celebrating Learning

By Parveen Sharma
Teaching is a Celebration (Parv)! This is a Podcast to Share Learning. We shall bring learning ideas, smart tools usage tips, TechForTeachers, talks, literary narrations and discussions about education, learning, life skills, literature and philosophy.
पढ़ाना एक पर्व है, उत्सव है जीवन के सार्थक हो जाने का!
पर्व सीखने और सिखाने का!
Share a VOICE MESSAGE via Anchor App - (59 Sec) anchor.fm/teacherparv/message
I am Parveen Sharma.
I teach Communication Skills, English, EdTech, Podcasting, Public Speaking, Employability Enhancement and Literary Skills.
I blog at eklavyaparv.com
Listen on
Where to listen
Apple Podcasts Logo

Apple Podcasts

Breaker Logo

Breaker

Google Podcasts Logo

Google Podcasts

Overcast Logo

Overcast

Pocket Casts Logo

Pocket Casts

RadioPublic Logo

RadioPublic

Spotify Logo

Spotify

Currently playing episode

Happy Independence Day INDIA - Serve INDIA by Strengthening YourSelf

TeacherParv: Celebrating Learning

1x
मुंशी प्रेमचंद की कहानी बड़े भाई साहब | Story by Munshi Premchand | Bade Bhai Saheb | Parveen Sharma
प्रेमचंद की कहानी बड़े भाई साहब, शिक्षा और शिक्षण पर जो चोट करती है, वह जितनी सहज लगती है उतनी ही सटीक और सबल भी है। जो सुधार हमारे तंत्र में आज़ादी से पहले आने चाहिए थे उनकी दरकार आज भी है। इस कहानी में जितना व्यंग्य है उतनी ही गंभीरता भी।
26:45
October 1, 2021
Gazal Wahi Jo Bhoolti Nahin | Ep2 | Jagjit Singh | TeacherParv Podcasts
Episodes with music are only available on Spotify.
जगजीत सिंह मेरे और आपके अपने हैं। दिल पर इतना राज तो बस जगजीत ही कर सकते हैं कि आप चाहते ही नहीं कि उनकी ग़ज़लें रुक जाएँ! "ग़ज़ल वही जो भूलती नहीं" इस गुलदस्ते में हैं:  शाम से आँख में नमी सी है होशवालों को ख़बर क्या तुम इतना जो मुस्कुरा रहे हो कोई दोस्त है न रकीब है कभी यूँ भी तो हो आप अगर इन दिनों यहाँ होते 
39:28
September 11, 2021
Master Ji Ki Diary with Abhishek Bhattacharya: मास्टर जी की डायरी - Page 4
Abhishek Bhattacharya is a BlockChain pioneer in India. When I say he is a pioneer, there are reasons behind this designation. This boy is 26 and he has been a 3X Entrepreneur, 2x Author, Educator. He is building India's Biggest Blockchain Platform. Currently, he is leading the trendsetter- a unique start-up that works to facilitate the govt and banks in the area of agriculture. Abhishek is a Co-founder at Whrrl and was a Product Owner for the service product at Policybazaar (an Indian unicorn insurance aggregator).   At Whrrl, he’s building India’s first Agri-Fintech Blockchain platform that can save 25-40% of farmers’ income, and protect banks from millions in very regular frauds in the segment of Warehouse Receipt Finance. This integrated mega-platform is currently deployed in 1,400 warehouses across 5 states in India, has over US $500 Mn commodities tokenized on the blockchain, and over US $1 Mn digital loans dispatched to farmers and agri-businesses, with US $330 Mn committed by the partner banks to be routed via the platform. Whrrl has been incubated at IIM Ahmedabad, University of Toronto's CDL, Chiratae Innovators' Program, TheGAIN in collaboration with MeiTy, GUSEC et. al. He is a regular speaker in blockchain and has given 2-day workshops in universities, in an attempt to show students the importance of choosing blockchain as a career path. Apart from that, he has taken lectures in blockchain for 5,000+ faculty, PhDs, and students worldwide. He’s an Educator with ODEM, and a visiting faculty with Amity’s Post Graduate Program in Blockchain Technology and Management. He has also advised the Certified Blockchain Professional (CBP) Course by EC-Council that's present across 145 countries. Lastly, he was nominated for the "Top 50 Tech Leaders" award by InterCon Dubai. He had been invited as a Speaker at one of Europe's biggest Blockchain conferences - Decentralized 2019 in Athens, Greece; as a Speaker at The Blockchain World Forum in Shenzhen, China; and as a Panelist/Speaker with a nomination for Best Crypto Educator in GURUS Awards by Next Block Asia 2.0 in Bangkok, Thailand last year; as a panellist/judge at Govt. of India’s program for startups at IIM Kashipur; and, as a Speaker at the European Digital Week and Global Technology Summit, 2020. https://www.linkedin.com/in/abhib3012/
42:15
August 27, 2021
Gazal Wahi Jo Bhoolti Nahin | Ep1 | Jagjit Singh | TeacherParv Podcasts
Episodes with music are only available on Spotify.
ग़ज़ल वही जो भूलती नहीं | Gazal Wahi Jo Bhoolti Nahin | Ep1 | Jagjit Singh | TeacherParv Podcasts Jagjit Singh is a known name, yes, he is actually a known name to all of us. This owner of the magical voice ensured that gazal becomes part of our passions and life-long attachments. He sang for everyone and today when we miss him, he is very much there. Teacherparv Podcasts- Parveen Sharma- Invites you all to bring to the surface that unending appreciation.. which is very much alive... Listen to Him... again!
48:28
August 22, 2021
"बाज और साँप" कहानी | NCERT द्वारा पुरस्कृत पॉडकास्ट | Parveen Sharma
"बाज और साँप" कहानी | NCERT द्वारा पुरस्कृत पॉडकास्ट This Podcast has been awarded as the Best Submission in its Category- Audio, Middle-Level by NCERT.  With the support and blessings of everyone, I have been the only teacher from Haryana to get included in 44 Awardees. 
10:53
August 16, 2021
Master Ji Ki Diary with Ishani Luthra : मास्टर जी की डायरी - Page 3
The Candid Opinions: Because Life is Too Short for Not Being Original Ishani Luthra has been my student since the Amity days. She did her B. Tech. in Computer Science and went on to experience the technological world. Her creative spark and passion to learn led her to her actual love - Creative and Professional Writing. Now, she is a published author, acknowledged public speaker, blogger and event organiser.  In this candid conversation, Ishani shares how she knows me, what made her appreciate the odd ways of my teaching and how she has evolved herself through the 'class assignment - Blogging' activity. It is quite interesting to reveal the secret behind the GD and Presentation Skills techniques, I used with them.  She introduces her newly released book- The Candid Opinions - shares her experience at The Toastmasters (Public Speaking Club). She turns philosophical about learning and life but cannot separate herself from being a child. Ishani names the books she has read and recommends them for readers.
37:39
August 1, 2021
Master Ji Ki Diary with Raghvendra Pande :मास्टर जी की डायरी - Page 2
Raghu - Raghvendra Pande - is a 2009-2011 MBA- HR batch student from Amity Business School, Amity University NOIDA. He is Manager - HR operations at Sterlite Power. He has been one of the first ones for me in the classrooms of Amity. I was just a few years elder to him and his batch. So, it has developed into an exquisite relationship with him. He has been a skilled and sensible HR Professional who knows the in-and-out of what works in the jobs, hiring and working.  Raghu has recently started learning guitar and is someone who is blunt, happy and clear in his approach. One cannot avoid taking pride in being his teacher from the classroom.  He shares his experience, bonding with me, and insists on the importance of Communication Skills aka Business Communication.  This has been a conversation in Hindi-English.  Page 1 has already been published last week, Link: https://open.spotify.com/episode/5R4TdzUQUqeJG8Jee5bg8x?si=XrcLiGfIQdeIZ4lcDDxydQ Introduction Episode Link: https://open.spotify.com/episode/7zt7mQUcQGJXhugIjKcFDw?si=Po4KiC6-QU6qmhH4Yl8dqQ&utm
41:15
July 21, 2021
Master Ji Ki Diary with Shobhit Jolly Sethi: मास्टर जी की डायरी - Page 1
Shobhit works with DareToGear  - An Adventure Sports Company. He leads cycling expeditions and is an avid rider himself. He did his Mechanical Engineering from Amity University Noida with me as his Communication Skills teacher.  He has been a wonderful learner since then. He visited us at Kurukshetra and that meeting remains a precious memory. This boy is a passionate reader, life-long learner and makes sense when he speaks. At his age, he is not extra-mature, he is what one needs to be to make a mark in life.  When we see him, it is like learning to know ''How one can keep himself HAPPY and Add that Bliss to Everyone around him'.  Shobhit fondly recalls the moments that connected me to him. I really wonder about the 'proxy' Episode he mentioned. He has appreciative memories of his school teachers as well. As the icing on the cake - He is an excellent listener. This can be observed when he allows the other to complete sentences, gives a chance to speak first. As someone who believes in "I Love Myself" his life philosophy has been: In a society that profits from your self-doubt, liking yourself is a rebellious act. You can listen to the First Episode - Intro to Series - मास्टर जी की डायरी - https://open.spotify.com/episode/7zt7mQUcQGJXhugIjKcFDw?si=ME2dYTlfRomUoXNDl9g3YQ&dl_branch=1
48:60
July 15, 2021
मास्टर जी की डायरी: A Teacher-Student Memoir Series - Ep1
I am My Students! This podcast series is a Salute to Each Student who has allowed me to become a Teacher in the classroom and beyond the walls as well. The best of me came out and is still in a positive quest, because the Learners have been my source of inspiration. The way they joined me in those crazy, out-of-the-trend things, actually established an exceptional Learning Culture. The Models and Manners still remain matchless and active. - मास्टर जी की डायरी खुल तो रही है, पर इसमें लिखने वाले वो हैं जो मुझे याद आते हैं, उस मीठे गीत की तरह जिसे आप जिंदगी के किसी भी मोड़ पर गुनगुना कर सब ठीक महसूस कर लेते हैं। मुझे बनाने वाले ये शिल्पकार मेरे लिए बेहद ज़रूरी ही नहीं, अपने भी हैं और एक ख़ास जगह रखते हैं। इस श्रृंखला में इनसे बातें होंगी, एकदम आराम से और ख़ुशी से। किसी इम्तिहान की तरह नहीं, बस यादों के पिटारे को खोलने के लिए सुनेंगे-सुनाएंगे। एक कोशिश है, मन से संजोया हुआ एक सपना ला रहा हूँ... उम्मीद है आप सब साथ भी देंगे, सिखाएंगे भी और अपनाएंगे भी। (Initial Music Credits - K'Naan https://youtu.be/WTJSt4wP2ME)
11:51
June 23, 2021
Vidyantriksh Parenting Series | Ep30 | श्री अमित डागर के साथ बातचीत | TeacherParv Podcasts
Vidyantriksh Parenting Series | Ep30 | श्री अमित डागर के साथ बातचीत | TeacherParv Podcasts This is the last episode of Season 01 of this parenting Series.  We shall come back with the Vidyantriksh Parenting Series - Season 02 in July. The Team of TeacherParv Podcasts is grateful to Dr Aarti Vidyantriksh and Sh Amit Dagar for their support. We appreciate and thank your listeners as well.  Listen to all episodes: CLICK to Open the Playlist. अपने सुझाव-सराहना-विचार भेज सकते हैं: https://www.facebook.com/thevidyantrikshschool/ या लिखें: TeacherParv[@]gmail.com Connect at https://twitter.com/TeacherParv TeacherParv Podcasts are available on Spotify, Apple Podcasts, JioSaavn, Google Podcasts, Anchor, Breaker, OverCast, Radio Public, PocketCasts, Castbox.
18:46
June 4, 2021
Vidyantriksh Parenting Series | Ep29 | डॉ आरती विद्यान्तरिक्ष के साथ बातचीत | TeacherParv Podcasts
Vidyantriksh Parenting Series | Ep29 | डॉ आरती विद्यान्तरिक्ष के साथ बातचीत | TeacherParv Podcasts डॉ आरती 'विद्यान्तरिक्ष'  विद्यान्तरिक्ष विद्यान्तरिक्ष स्कूल की संस्थापक और प्रिंसिपल हैं। शिक्षा, बाल-मनोविज्ञान, बच्चों और अभिभावकों की काउंसलिंग आदि तमाम तरह के विषयों पर परिपक्व समझ और अनुभव रखती हैं।  आरती जी और अमित जी के ही विचार आपने विद्यान्तरिक्ष पेरेंटिंग श्रृंखला में सुने हैं। आइये आज उनसे ही बात करते हैं और जानते हैं क्या है विद्यान्तरिक्ष, क्या हैं एक विद्यालय और पेरेंट्स के साँझे सरोकार... अपने सुझाव-सराहना-विचार भेज सकते हैं: https://www.facebook.com/thevidyantrikshschool/ या लिखें: TeacherParv[@]gmail.com Connect at https://twitter.com/TeacherParv TeacherParv Podcasts are available on Spotify, Apple Podcasts, JioSaavn, Google Podcasts, Anchor, Breaker, OverCast, Radio Public, PocketCasts, Castbox.
15:43
May 28, 2021
Vidyantriksh Parenting Series | Ep28 | वाइपर, बच्चे और पेरेंटिंग | TeacherParv Podcasts
Vidyantriksh Parenting Series | Ep28 | वाइपर, बच्चे और पेरेंटिंग | TeacherParv Podcasts क्या वाइपर जैसी साधारण वस्तु से पेरेंटिंग के बारे में आप कुछ सीख सकते हैं?  जी हाँ, वही वाइपर जिसे आप हर रोज़ नहाने के बाद बाथरूम का पानी साफ करने के लिए इस्तेमाल करते हैं। वैसे तो वाइपर दोनों साइड से काम करता है। लेकिन यदि आप वाइपर को सही साइड से इस्तेमाल करेंगे तो फर्श पर रुका पानी एकदम साफ हो जाएगा। और इस साइड से इस्तेमाल करते समय आपको कोई ताकत नही लगानी पड़ेगी। बस सिर्फ़ एक बार पूरे फर्श पर वाइपर घूमा दीजिए।  लेकिन यदि आपने गलत साइड से वाइपर का इस्तेमाल किया, तो समझिए कि आपको पानी साफ़ करने के लिए बहुत ताकत ओर समय लगेगा, और अंत मे, फ़र्श फिर भी पूरी तरह से साफ नही होगा (कोशिश करके देखें)।  अब इसी सिद्धान्त को आप पेरेंटिंग पर लागू करके देखिए। यदि आप अपने बच्चे को सही साइड (यानी उसके टैलेंट, व्यक्तित्व और नेचर के अनुसार) के हिसाब से हैंडल कर रहे हैं तो आपको उसपर कम ऊर्जा लगाकर, बिना कोई दबाव या तनाव दिए अपेक्षित परिणाम मिलेंगे।  लेकिन यदि आपने बच्चे को गलत साइड से हैंडल किया तो याद रखिये, पानी आपको फर्श पर ही मिलेगा। इसलिए अगली बार वाइपर को सही साइड से ही हैंडल करें।  और बच्चों को तो करना ही है। अपने सुझाव-सराहना-विचार भेज सकते हैं: https://www.facebook.com/thevidyantrikshschool/ या लिखें: TeacherParv[@]gmail.com Connect at https://twitter.com/TeacherParv TeacherParv Podcasts are available on Spotify, Apple Podcasts, JioSaavn, Google Podcasts, Anchor, Breaker, OverCast, Radio Public, PocketCasts, Castbox.
03:22
May 7, 2021
Vidyantriksh Parenting Series | Ep27 | नम्बरों की कोचिंग से क्या हासिल | TeacherParv Podcasts
Vidyantriksh Parenting Series | Ep27 |  नम्बरों की कोचिंग से क्या हासिल | TeacherParv Podcasts 2020 में लगभग 40 हज़ार सीटों के लिए 10 लाख से ज्यादा बच्चों ने JEE की परीक्षा दी। 2020 में ही करीब 1 लाख MBBS और BDS की सीटों के लिए लगभग 16 लाख बच्चों ने नीट की परीक्षा दी। इन 26 लाख बच्चों में से लगभग 95% बच्चे इन परीक्षाओं के लिए कोचिंग लेते हैं। सोचिये, कितना प्रेशर और तनाव झेलते हैं हमारे बच्चे। कोचिंग लेते समय प्रेशर से ना जाने हम कितने ही बच्चों को खो चुके हैं। फिर भी कहीं कोई सुधार नही दिखता। हर साल पहले से ज्यादा बच्चे कोचिंग लेते हैं, इन परीक्षाओं में बैठते हैं। चिंता उन बच्चों की ज्यादा होती है जिनका इंजीनियरिंग और मेडिकल कोर्सेज के लिए कोई एप्टीट्यूड नही होता। मेडिकल, इंजीनियरिंग काउंसलिंग के बाद करीब 24 लाख बच्चे बच जाते हैं। क्या करते हैं ये बच्चे? कुछ भी करें, लेकिन ये बच्चे टेस्ट पास ना कर पाने की टीस, माता पिता के सपने पूरे नही कर पाने का प्रेशर, और इसी कारण, कमजोर सेल्फ एस्टीम के साथ ताउम्र जीते हैं। क्या सच में इतना मुश्किल है मेडिकल, इंजीनियरिंग ओर कोचिंग के इस मायाजाल से बाहर निकलना। बिल्कुल नहीं। बस आपकी सोच और इच्छा होनी चाहिए। अपने बच्चे का टैलेंट समझें और उसी हिसाब से उसके लिए कोई कोर्स/ कैरियर चुनें। उलझन में हैं तो प्रोफेशनल सलाह लें। कैरियर कॉउंसल्लर की मदद लें। लेकिन भगवान के लिए, अपने बच्चों को ये बेवजह का तनाव मत दें। मत झोंकें उन्हें कोचिंग की इस भठ्ठी में। अपने सुझाव-सराहना-विचार भेज सकते हैं:  https://www.facebook.com/thevidyantrikshschool/ या लिखें: TeacherParv[@]gmail.com Connect at https://twitter.com/TeacherParv  TeacherParv Podcasts are available on Spotify, Apple Podcasts, JioSaavn, Google Podcasts, Anchor, Breaker, OverCast, Radio Public, PocketCasts, Castbox.
04:38
May 7, 2021
Vidyantriksh Parenting Series | Ep26 | कितना टोकते हैं आप बच्चों को | TeacherParv Podcasts
Vidyantriksh Parenting Series | Ep26 | कितना टोकते हैं आप बच्चों को | TeacherParv Podcasts बच्चों को ज्ञान या कुछ न करने की सलाह देने में एक बहुत बड़ा जोखिम ये होता है कि या तो वो काम आप भी पहले कर चुके होते हैं या आप भविष्य में कर सकते हैं। किसी विषय को लेकर हमारी सोच कभी भी बदल सकती है। ये नहीं पता कि पहले सही थे या बदली हुई सोच के साथ सही / गलत हैं। ऐसे में बच्चे जब आपको देखते हैं तो उनके मन में ये सवाल आता है कि मम्मी पापा पहले ऐसा कहते/ करते थे अब ऐसे कहते/ करते हैं। पेरेंटिंग में आपकी निरंतरता पर भी संदेह करते हैं बच्चे। और फिर वो ये भी सोचते हैं कि बदलने का ये अधिकार उन्हें क्यों नहीं? छोटा सा उदाहरण - आपको फ़ास्ट फ़ूड खाना पसंद नहीं। आपको डिओडरेंट का इस्तेमाल पसंद नहीं। या और ऐसी बहुत सारी बातें/ चीज़ें होंगी जिन पर आपकी अपनी एक सोच है- सही या गलत। अब अधिकतर पेरेंट्स की कोशिश यही रहती है कि जो उन्हें पसंद नहीं वो काम/ चीज़ बच्चे न करें। लेकिन क्या ये हो सकता है कि भविष्य में आप जंक फ़ूड खाने लग जाएँ / आप डिओडरेंट का इस्तेमाल शुरू कर दें या किसी मुद्दे पर आपकी सोच पहले से विपरीत हो जाये। बहुत सम्भव है। इसीलिए बच्चों के साथ हमें बहुत टोका-टाकी तब तक नहीं करना चाहिए जब तक उनका कोई बहुत बड़ा नुक्सान न होने वाला हो। जिंदगी उनकी है और हर एक्शन के परिणाम उनको ही भुगतने होंगे। हाँ, ये बात आप उन्हें प्यार से समझाते जरूर रहें कभी-कभी। और ऐसा नहीं कि किसी संकट में आप उनका किसी भी प्रकार से साथ छोड़ देंगे। पेरेंट्स होने के नाते हमें तो साथ रहना ही है। अपने सुझाव-सराहना-विचार भेज सकते हैं: https://www.facebook.com/thevidyantrikshschool/ या लिखें: TeacherParv[@]gmail.com Connect at https://twitter.com/TeacherParv TeacherParv Podcasts are available on Spotify, Apple Podcasts, JioSaavn, Google Podcasts, Anchor, Breaker, OverCast, Radio Public, PocketCasts, Castbox.
03:09
March 28, 2021
Vidyantriksh Parenting Series | Ep25 | पेड़ पौधे और बच्चे एक जैसे होते हैं | TeacherParv Podcasts
Vidyantriksh Parenting Series | Ep25 | पेड़ पौधे और बच्चे एक जैसे होते हैं | TeacherParv Podcasts पेड़ पौधे और बच्चों का पालन पोषण लगभग एक जैसा होता है। कोई भी पेड़ पौधा हो उसकी नेचुरल प्रवर्ति है ऊपर जाने की। हमारा काम है उनमें समय पर पानी, धूप और खाद डालने का। कई बार फूट के पास से टहनी टूट जाती है, कई बार खुद के वजन से या किसी अन्य कारण से पौधा झुक जाता है, ऊपर नही बढ़ता या समय लेता है। ऐसे में अक्सर लोग पेड़ को सीधा करने के लिए किसी पाइप का सपोर्ट लगा देते हैं। वो पेड़ सीधा तो चल पड़ता है लेकिन जिस दिन सपोर्ट वाला पाइप हटाते हैं वो फिर नीचे की तरफ झुक जायेगा। यदि हम थोड़ा इंतेज़ार करें तो जो नई फूट चलती है वो ऊपर की तरफ ही जाती है। कुछ लोग पेड़ को जल्दी बड़ा करने के लिए उनकी नीचे की टहनियां काट देते हैं। वो पेड़ तो ऊपर निकल जाता है लेकिन उसका तना मजबूत नही हो पाता। और किसी दिन तेज हवा या बारिश के दबाब ना झेल पाने के कारण टूट जाता है। एक जंगल में उगे पेड़ और एक घर में कांट छांटकर बड़ा किया गया पेड़, इनमें सुंदर भी ओर मजबूत भी जंगल वाला पेड़ ही होता है। इसलिए पेड़ पौधों के साथ छेड़छाड़ न करके धैर्य रखते हुए उन्हें नैचुरली यानी स्वाभाविक रूप से बढ़ने देना चाहिए। बस अब पेड़ की जगह बच्चों को रखकर देख लीजिए कि आप क्या कर रहे हैं और आपको क्या करना है। धैर्यपूर्वक उन्हें बिना बड़े करने की जल्दी किये, बिना किसी वैचारिक छेड़छाड़ के बड़े होने दें। न ही उनके सपोर्ट पाइप लगाएं, बस पानी, खाद और धूप लगाते रहें। बच्चे कैसे होंगे ये सोचने की जरूरत नही आपको। अपने सुझाव-सराहना-विचार भेज सकते हैं: https://www.facebook.com/thevidyantrikshschool/ या लिखें: TeacherParv[@]gmail.com Connect at https://twitter.com/TeacherParv TeacherParv Podcasts are available on Spotify, Apple Podcasts, JioSaavn, Google Podcasts, Anchor, Breaker, OverCast, Radio Public, PocketCasts, Castbox.
04:00
March 25, 2021
Vidyantriksh Parenting Series | Ep24 | कितनी तरह के बच्चों को जानते हैं आप | TeacherParv Podcasts
Vidyantriksh Parenting Series | Ep24 | कितनी तरह के बच्चों को जानते हैं आप | TeacherParv Podcasts वैसे तो हर बच्चा अपने आप में अलग, अनूठा, अद्वितीय होता है। लेकिन बचपन से मैंने दो ही तरह के बच्चे देखे और सुने हैं - एक वो जिनके नम्बर बढ़िया आते हैं और दुसरे वो, जो नम्बर कम लेकर आते हैं (जैसे जान बूझकर)। अन्य तरह के बच्चे भी होते हैं लेकिन अधिकतर पेरेंट्स के लिए इन दो केटेगरी के बिना उनका कोई अस्तित्व नहीं। पढाई में होशियार बच्चों की सभी कमियां भी स्वीकार (दूध वाली गाय की तरह) जबकि कम नम्बर लाने वालों की हज़ार अन्य खूबियां भी बेकार। ऐसा क्यूँ? कुछ तो हमारी शिक्षा प्रणाली ही ऐसी है और फिर  पेरेंट्स भी इस प्रणाली को ही अंतिम मानकर बैठ जाते हैं। हमेशा ही ऐसे बच्चों की संख्या बहुत ज्यादा रही है जो हमारी शिक्षा प्रणाली के हिसाब से एवरेज कहलाते हैं। ऐसे में अधिकतर पेरेंट्स बच्चों के नम्बर कैसे बढ़ें इसके लिए नए-नए तरीके आजमाते हैं। फिर थक हारकर ये पेरेंट्स बच्चों के कम नंबरों को अपनी नियति मानकर दुखी मन से स्वीकार कर लेते हैं कि उनके बच्चों का कुछ नहीं हो सकता। पेरेंट्स जीवनभर इस मानसिक पीड़ा से खुद और अपने बच्चों को गुजारते रहते हैं लेकिन नंबरों से अलग अपने बच्चों का टैलेंट ढूंढने की कोशिश नहीं करते। हर क्षेत्र में स्पेशलिस्ट की तरह ही, आपके बच्चे किस क्षेत्र में बढ़िया कर सकते हैं/ करियर बना सकते हैं ये मार्गदर्शन करने वाले एक्सपर्ट्स भी उपलब्ध हैं आज। सौ फीसदी ना सही लेकिन काफी हद तक ये आपकी मदद कर सकते हैं। नम्बरों की दुनिया से बाहर आज एक बहुत बड़ी दुनिया है जो आपके इन "नम्बर नहीं लाने वाले" बच्चों की मददगार बन सकती है। नम्बरों के इस मकड़जाल से निकलिए। आपका बच्चा भी अपने आप में अलग, अनूठा, अद्वितीय है। एक बार दिल से इस बात को स्वीकार तो करके देखिये। अपने सुझाव-सराहना-विचार भेज सकते हैं: https://www.facebook.com/thevidyantrikshschool/ या लिखें: TeacherParv[@]gmail.com Connect at: https://twitter.com/TeacherParv TeacherParv Podcasts are available on Spotify, Apple Podcasts, JioSaavn, Google Podcasts, Anchor, Breaker, OverCast, Radio Public, PocketCasts, Castbox.
03:59
March 25, 2021
Vidyantriksh Parenting Series | Ep23 | पैसे की जरूरत सबको होती है, बच्चों को भी | TeacherParv Podcasts
Vidyantriksh Parenting Series | Ep23 | पैसे की जरूरत सबको होती है, बच्चों को भी | TeacherParv Podcasts बच्चों की एक बहुत ही व्यावहारिक जरूरत जिसे अधिकतर पेरेंट्स नजरअंदाज करते हैं, वो है- पैसे की जरूरत। मैंने देखा है ऐसे पेरेंट्स को भी जो पोस्टग्रेजुएशन कर रहे, शादी हो चुके, अपने बच्चों को भी खर्च के लिए पैसे देना जरुरी नहीं समझते। उन्हें लगता है कि सब कुछ तो हम दे रहे हैं, फिर बच्चे पैसे का क्या करेंगे। बच्चों से पूछिए, वो आपको जरूरतें बताएंगे। दूसरा, जेब में पैसा जब आपको कॉन्फिडेंस देता है तो यही बात बच्चों के लिए भी सच है। पेरेंटिंग का एक अहम हिस्सा है फाइनेंसियल लिटरेसी (वित्तीय साक्षरता), जो तब तक बच्चों को नहीं आएगी जब तक आप उन्हें पैसे नहीं देंगे। और पैसे देने के लिए बच्चों के बड़े होने के इंतजार मत करिये। पॉकेट मनी की शुरुआत बचपन से ही कीजिये। बच्चों की उम्र, आपकी सोच और परिवार की आर्थिक स्थिति के हिसाब से इसे तय करते रहें। बच्चे पैसों का दुरूपयोग न करें इसके लिए आप कुछ सकारात्मक शर्तों के साथ पैसे दें। खर्च की एक लिमिट रख कर सकते हैं। लेकिन इस प्रक्रिया को बच्चों और स्वयं के लिए भी बोझिल न बनाएं। पैसे देकर बच्चों पर इसका अहसान मत करें। कभी बच्चे गलत जगह खर्च भी कर देते हैं तो सकारात्मक तरीके से हैंडल करें। मकसद को महत्व दें, पैसे को नहीं। कुछ पैसे खराब करके यदि बच्चे पैसे का सही इस्तेमाल सीख जाएँ तो ये अनमोल बात होगी। और पैसे बचाने के चक्कर में आप बच्चों को कुछ सीखा नहीं पाए तो बचत किस काम की। ध्यान रखें, पैसे आप नहीं देंगे तो या तो बच्चा किसी गलत तरीके से इसे हासिल करने की कोशिश करेगा, नहीं तो जब वह अपने दोस्तों में जायेगा हीन भावना का शिकार होगा।  और दोनों ही स्थितियां गलत होंगी। अपने सुझाव-सराहना-विचार भेज सकते हैं: https://www.facebook.com/thevidyantrikshschool/ या लिखें: TeacherParv[@]gmail.com Connect at https://twitter.com/TeacherParv TeacherParv Podcasts are available on Spotify, Apple Podcasts, JioSaavn, Google Podcasts, Anchor, Breaker, OverCast, Radio Public, PocketCasts, Castbox.
03:29
March 25, 2021
Vidyantriksh Parenting Series | Ep22 | कहीं आप हेलीकाप्टर पेरेंट तो नहीं | TeacherParv Podcasts
Vidyantriksh Parenting Series | Ep22 | कहीं आप हेलीकाप्टर पेरेंट तो नहीं | TeacherParv Podcasts कहीं आप हेलीकाप्टर पेरेंट तो नहीं? ये ऐसे पेरेंट्स होते हैं जो वैसे तो बच्चों की परवरिश में कोई रूचि नहीं रखते, कभी कुछ नहीं कहते, लेकिन जब कभी इनका मूड (खराब) होता है, (बच्चों की कोई शिकायत आ जाये, नम्बर कम आ जाएँ या किसी अन्य कारण से), उस दिन बच्चों को पकड़ लेते हैं। फिर ये पिछले छह महीने तक को सारी जिम्मेदारी निभाते हुए बच्चों की क्लास लगाते हैं। और ज्ञान बांटकर, डांट डपटकर, महीने, दो महीने के लिए पेरेंटिंग की जिम्मेदारियों से फिर मुक्त हो जाते हैं। फिर किसी एक दिन ऐसा ही करने के लिए। ये कभी-कभी की पेरेंटिंग न करें। हेलीकाप्टर पेरेंट्स व् उनकी बातों को बच्चे कभी गंभीरता से नहीं लेते। नौकरी या अन्य कारण से समय की दिक्क्त हो सकती है। लेकिन सारी व्यवहारिक दिक्कतों के बावजूद समय कैसे, कब और कितना निकालना है ये आपको देखना है। लेकिन निकालना है और नियमित रूप से। निरंतरता का बहुत महत्व है पेरेंटिंग में। काम या अन्य किसी बहाने की आड़ में यदि आप पेरेंटिंग की जिम्मेदारियों से पल्ला झाड़ लेंगे तो गलत है। हेलीकाप्टर पेरेंटिंग तो बिलकुल न करें। ध्यान रखें, जितना गुड़ आप डालेंगे, उतना ही मीठा होगा यानि जितना क्वालिटी समय आप बच्चों में इन्वेस्ट करेंगे, उनकी परवरिश उतनी ही बढ़िया होगी। अपने सुझाव-सराहना-विचार भेज सकते हैं: https://www.facebook.com/thevidyantrikshschool/ या लिखें: TeacherParv[@]gmail.com Connect at: https://twitter.com/TeacherParv TeacherParv Podcasts are available on Spotify, Apple Podcasts, JioSaavn, Google Podcasts, Anchor, Breaker, OverCast, Radio Public, PocketCasts, Castbox.
03:45
March 23, 2021
Vidyantriksh Parenting Series | Ep21 | पेरेंटिंग के परोक्ष तरीके भी अपनाएं | TeacherParv Podcasts
Vidyantriksh Parenting Series | Ep21 | पेरेंटिंग के परोक्ष तरीके भी अपनाएं | TeacherParv Podcasts पेरेंटिंग करते समय कुछ बातें आपको बच्चों को स्पष्ट ही बतानी होती हैं। लेकिन कुछ बातें ऐसी होती हैं जिन्हें आपको indirect यानि परोक्ष रूप से कहना या करवाना चाहिए। सब कुछ स्पष्ट कहना जरुरी भी नहीं क्यूंकि ऐसा करने से भी कई बार बात बिगड़ सकती है। ब्रिटैन के प्रसिद्द एंटरप्रेन्योर बिजनेसमैन रिचर्ड ब्रैंसन की माँ को जब पता चला कि उनके बेटे को डर लगता है, तो इसे दूर करने के लिए उन्होंने एक तरकीब निकाली। वो हर रोज ब्रैंसन से दूध मंगवाती। दूध लाने के लिए ब्रैंसन को एक सुनसान जंगल से गुजरना पड़ता था। शुरू में तो डर लगा, लेकिन जैसे-जैसे दिन गुजरते गए ब्रैंसन का डर खुलता गया। और आज उनका व्यक्तित्व सबके सामने है। यदि उनकी माँ ब्रैंसन को बता देती कि उनका डर निकालने के लिए ही उनसे दूध मंगवाती हैं तो शायद वो ऐसा नहीं करते, हो सकता है नाराज भी हो जाते अपनी माँ से। बच्चे बहुत सी बातों को स्वीकार करते हैं और बहुत बातों को नहीं। कारण महत्वपूर्ण नहीं। इसलिए सब कुछ बच्चों से सीधे-सीधे न कहकर उन्हें बेहतर बनाने के लिए जहाँ जरूरत हो वहां परोक्ष तरिके भी अपनाएं। मकसद हल होना जरुरी है माध्यम महत्वपूर्ण नहीं। अंत में हम सब चाहते तो अपने बच्चों का भला ही हैं।  अपने सुझाव-सराहना-विचार भेज सकते हैं: https://www.facebook.com/thevidyantrikshschool/ या लिखें: TeacherParv[@]gmail.com Connect at: https://twitter.com/TeacherParv TeacherParv Podcasts are available on Spotify, Apple Podcasts, JioSaavn, Google Podcasts, Anchor, Breaker, OverCast, Radio Public, PocketCasts, Castbox.
03:04
March 20, 2021
Vidyantriksh Parenting Series | Ep20 | रंग सोच और त्वचा का | TeacherParv Podcasts
Vidyantriksh Parenting Series | Ep20 | रंग सोच और त्वचा का | TeacherParv Podcasts आजकल बच्चे अपने लुक्स को लेकर बहुत सजग हो गए हैं! समय के हिसाब से होना भी चाहिए। ध्यान रखने वाली बात बस इतनी सी है कि आपके बच्चे सुंदर दिखने को अपने शरीर के रंग से न जोड़ें। पहले तो बच्चों के नाम ही कालू -धोलू रख देते थे, लेकिन अब वो समय नहीं। बच्चों को अपने रंग से काम्प्लेक्स (हीन भावना) हो सकता है जो जीवनभर तनाव का रूप ले सकता है। और यदि आपके बच्चे ऐसा सोचते भी हैं तो इसमें उनकी बहुत ज्यादा गलती नहीं। क्यूंकि आज चर्चा ही हर जगह सुंदर दिखने की हो रही है। हम रहते ही ऐसे समाज में हैं जहाँ सारी उम्र रंग को सफ़ेद करने को लेकर लोग फार्मूला ढूंढते हैं। हम भी जाने-अनजाने में बहुत बार किसी के रंग को लेकर टिप्पणी कर देते हैं। कॉलोनी के दोस्त, स्कूल में कोई सहपाठी आपस में चिढ़ाने के लिए, मजाक में या दुर्भावना से भी कई बार भी आपके बच्चों को ये काम्प्लेक्स दे सकते हैं। इसलिए यदि आपको बच्चों की बातों में उनके शारीरिक रंग से जुड़े किसी प्रकार के संकेत मिलते या दीखते हैं तो उन्हें समझिये। और ये बात कुछ ऐसी है जिसे वो शायद आपके सीधे-सीधे बताने से नहीं समझेंगे। परोक्ष रूप से आपको उन्हें समझाना होगा कि वो कितने खूबसूरत हैं- सिर्फ विचारों से नहीं बल्कि शारीरिक रूप से भी। हर उम्र के लोगों की तरह ही बच्चों को भी अपने हमउम्र ग्रुप में स्वीकार्यता चाहिए होती है- चाहे वो उनके सुंदरता से जुडी हो या इंटेलिजेंस से। इसलिए ऐसे मुद्दों को आपको परोक्ष रूप से और बहुत ही धैर्य से हैंडल करना होगा। अपने सुझाव-सराहना-विचार भेज सकते हैं: https://www.facebook.com/thevidyantrikshschool/ या लिखें : TeacherParv[@]gmail.com Connect at: https://twitter.com/TeacherParv TeacherParv Podcasts are available on Spotify, Apple Podcasts, JioSaavn, Google Podcasts, Anchor, Breaker, OverCast, Radio Public, PocketCasts, Castbox.
03:25
March 15, 2021
Happy Birthday Sir - Anoop Lather - मेरे गुरु
अनूप लाठर 'सर्' कहा है उनको हमेशा और गुरु बनकर उन्होंने एक ऐसे रास्ते पर डाला जो लेकर आया है बेहतर ज़िन्दगी में। समझ और सीखने वाली ज़िन्दगी। मंच से लेकर मन तक कैसे बोलना है, कैसे ख़ामोश होना है, कैसे लिखना है और कैसे सब कुछ आयोजित करना है...जीवन में काम।आने वाले सब मंत्र दिए... आज आपका जन्मदिन है और मैं, मेरे जैसे खूब सारे, सब आपकी सेहत, सफ़लता और साथ की कामना करते हैं! Happy Birthday, Sir! He has been the Teacher who taught the Art of Speaking, Thinking and Presentation. He has been there as the One Presence who got me Precious Relations, for the lifetime. The Anoop Brotherhood is the family I have to look up to when there is an asking for strength and happiness.
03:52
March 13, 2021
Vidyantriksh Parenting Series | Ep19 | परवरिश में प्यार और आत्मीयता का जादू | TeacherParv Podcasts
Vidyantriksh Parenting Series | Ep19 | परवरिश में प्यार और आत्मीयता का जादू | TeacherParv Podcasts हाल ही में एक अज़ीज़ मित्र की बेटियों की शादी में शामिल हुआ। उनकी बेटियां कुछ वर्षों से पढ़ाई और फिर नौकरी के कारण चंडीगढ़ रह रहीं थी। जो बात मुझे बहुत अच्छी लगी वो ये कि उनकी बेटियां बातचीत, हावभाव, व्यवहार आदि में दिखावटीपन से कोसों दूर, बिल्कुल स्पष्ट, बेझिझक, आत्मविश्वास से भरी और खुश थीं। और ये इन सबके बाद कि मित्र का घर बहुत आलीशान नही, किसी पॉश कॉलोनी में नही, घर में बहुत सुख- सुविधाएं नही, मित्र बहुत अमीर नहीं, मित्र की पत्नी आज की मॉम नही, आदि सब कारण जो सोचे-कहे जाते हैं आज कल।  उन बेटियों को जो वो खुद हैं, उनका परिवार है, वैसा होने और दिखने पर किसी प्रकार से कोई दिक्कत या झिझक महसूस हुई हो, ऐसा नहीं लगा।   और उनके ऐसा होने में बहुत से कारण रहे होंगे। एक मुख्य कारण जो मैं समझऔर देख पाया वो है-  परिवार में मजबूत, आत्मीयता से भरे आपसी रिश्ते।  तो बच्चों की बढ़िया परवरिश के लिए अपने बच्चों को भौतिक सुख सुविधाओं की जगह अपना समय दीजिए। कॉन्फिडेंस स्कूल में स्टेज पर खड़े होकर बोलने से नही, आपके रिश्ते की मजबूती और प्यार से आएगा।  रिश्तों में बनावटीपन ख़त्म कर वही रहिए और दिखिये जो आप हैं, तभी आपके बच्चे भी इस बीमारी, यानी दिखावटीपन, से बच पाएंगे।  कितने भी बड़े हो जाएं, अपने बच्चों को कसकर गले लगाने से डरिये मत। अपना प्यार उन्हें दिखाइए। उनके साथ हंसिये-हंसाइये। नम्बर कम आएं, रंग गोरा न हो, पतले हों, मोटे हों, कपड़े ब्रांडेड न हों, घर बड़ा न हो, गाड़ी बड़ी न हो, आदि सब चलेगा लेकिन आपके प्यार में कमी होगी तो, जनाब, इन सारी चीजों का भी कोई फायदा नहीं होगा। आप अपने सुझाव-सराहना-विचार भेज सकते हैं: https://www.facebook.com/thevidyantrikshschool/ या लिखें : TeacherParv[@]gmail.com Connect at: https://twitter.com/TeacherParv TeacherParv Podcasts are available on Spotify, Apple Podcasts, JioSaavn, Google Podcasts, Anchor, Breaker, OverCast, Radio Public, PocketCasts, Castbox.
03:46
March 13, 2021
Vidyantriksh Parenting Series | Ep18 | बच्चों के जीवन में वास्तविक व्यवहारिक ज्ञान | TeacherParv Podcasts
Vidyantriksh Parenting Series | Ep18 | बच्चों के जीवन में वास्तविक व्यवहारिक ज्ञान | TeacherParv Podcasts मेरा नाम प्रवीण शर्मा है। सीख कर कुछ आप तक पहुँचाता हूँ, और ज़्यादा सीखने के लिए! ___ पेरेंटिंग का एक अहम हिस्सा है बच्चों को जीवन का व्यवहारिक ज्ञान देना। हमें उन्हें ये जरूर बताना चाहिए कि जिस अन्न को हर रोज तीन समय हम भोजन में ग्रहण करते हैं, जो सब्जी, दाल हम खाते हैं, जो दूध हम पीते हैं, ये सब आता कहाँ से आता है और कैसे! जो पीढियां आज शहरों में पल रही हैं वो तो अनाज और सब्जियों को पहचानती भी नहीं। और, ये बातें उनका सामान्य ज्ञान बढ़ाने के लिए नहीं, उनके जीवन ज्ञान के लिए उन्हें बताई जानी चाहिए। वो शायद समझ पाएंगे कि farmer सिर्फ एक occupation नही होता (जैसा उन्हें सिलेबस में पढ़ाया जाता है)। आप अपने सुझाव-सराहना-विचार भेज सकते हैं: https://www.facebook.com/thevidyantrikshschool/ या लिखें : TeacherParv@gmail.com Connect at: https://twitter.com/TeacherParv TeacherParv Podcasts are available on Spotify, Apple Podcasts, JioSaavn, Google Podcasts, Anchor, Breaker, OverCast, Radio Public, PocketCasts, Castbox.
03:50
March 12, 2021
GijuBhai Badheka_Story_Chidiya
GijuBhai Badheka_Story_Chidiya This was recorded LIVE while taking a session with the State Resource Persons and Teachers - participating in the Training Prog of CIET, NCERT.
03:57
March 10, 2021
Vidyantriksh Parenting Series | Ep17 | बच्चों में निर्णय लेने की क्षमता | TeacherParv Podcasts
Vidyantriksh Parenting Series | Ep17 | बच्चों में निर्णय लेने की क्षमता | TeacherParv Podcasts बच्चों को हम जन्म जरूर देते हैं लेकिन उनकी ज़िन्दगी को हम अपने निर्णयों की बंधुआ नहीं रख सकते। जीवन में सबसे मुश्किल कोई काम है, तो वो है- निर्णय लेना। हमारी ज़िन्दगी हमारे छोटे-छोटे निर्णयों का ही परिणाम होती है। जरा सोचिये, कितनी जरूरी है ये स्किल, कितने भी नम्बरों से ज्यादा महत्वपूर्ण। लेकिन क्या हम अपने बच्चों को इसके लिए तैयार करते हैं?  नहीं। लगभग सभी पेरेंट्स अपने बच्चों के निर्णय उनकी ओर से लेते रहते हैं, और ये उनके बहुत बड़े होने तक भी चलता रहता है। पेरेंट्स ऐसा क्यों करते हैं। शायद हम डरते हैं कि वो सही निर्णय नहीं ले पाएंगे या ऐसा कर पाने में हम उनकी परिपक्वता पर शक करते हैं। लेकिन पेरेंट्स जो निर्णय लेते हैं क्या वो सारे सही साबित होते हैं?  क्या सभी निर्णय सोच समझकर, सिर्फ और सिर्फ बच्चों की भ लाई के लिए लिए गए होते हैं?  ज्यादातर नहीं। अब यदि हम बच्चों को उनके निर्णय लेना सिखाएं, उन्हें ही निर्णय लेने दें, तो क्या हो सकता है। उन सारी बातों की संभावनाएं हैं जो यदि पेरेंट्स निर्णय लेते हैं तो हो सकती हैं। तो स्थिति में बिलकुल कोई फर्क नहीं। सिर्फ हमारी सोच है। विश्वास कीजिये, बच्चे अपने निर्णय ले सकते हैं, आप नहीं सिखाएंगे तो भी। और ज़िन्दगी उनकी है, तो बेहतर है वो ही निर्णय लें। ऐसा करने पर उन्हें अपने निर्णयों के परिणाम भी स्वीकारने होंगे, उनकी जवाबदेही भी लेनी होगी। और अगली बार वो शायद और ध्यान से निर्णय लेंगे। हाँ, अपने अनुभव के कारण, आप उनके साथ चर्चा करके निर्णय लेने में उनकी मदद कर सकते हैं। वो भी तटस्थ रहकर, बिना अपना नज़रिया थोपे। अंतिम निर्णय बच्चों का ही होना चाहिए। ये आपका अपने बच्चों को शायद सबसे कीमती तोहफा होगा। बच्चों को हम जन्म जरूर देते हैं लेकिन उनकी ज़िन्दगी को हम अपने निर्णयों की बंधुआ नहीं रख सकते। पेरेंटिंग प्रगतिशील और समय के हिसाब से होना चाहिए। आप अपने सुझाव-सराहना-विचार भेज सकते हैं: https://www.facebook.com/thevidyantrikshschool/ या लिखें : TeacherParv@gmail.com Connect at: https://twitter.com/TeacherParv TeacherParv Podcasts are available on Spotify, Apple Podcasts, JioSaavn, Google Podcasts, Anchor, Breaker, OverCast, Radio Public, PocketCasts, Castbox.
04:09
March 5, 2021
Vidyantriksh Parenting Series | Ep16 | कुछ क्रिकेट की तरह भी है पेरेंटिंग | TeacherParv Podcasts
Vidyantriksh Parenting Series | Ep16 | कुछ क्रिकेट की तरह भी है पेरेंटिंग | TeacherParv Podcasts जिस तरह से खिलाड़ियों को अंडर 12, से अंडर 19 तक, रणजी ट्रॉफी जैसे अन्य घरेलू टूर्नामेंट आदि खिलाकर इंटरनेशनल लेवल के लिए तैयार किया जाता है, ठीक वैसे ही हमें भी बच्चों को एक बेहतर भविष्य के लिए हर स्तर पर पेरेंटिंग करके तैयार करना होता है।  बस यहां कोच और सेलेक्टर दोनों की भूमिका में आप ही हैं। आपको ही अपने बच्चों की प्रतिभा पहचाननी भी है, नियमित प्रैक्टिस भी करवानी है और उन्हें उसके अनुसार मौके भी देने है। सपोर्ट स्टाफ की भूमिका में आपको बच्चों की शारीरिक सेहत के साथ-साथ, मानसिक और भावनात्मक ग्रोथ के लिए भी उन्हें जरूरी मेहनत करवानी है और इसके लिए जरूरी पौष्टिक तत्वों से भरी डाइट का भी ध्यान रखना है। पिच आपको कभी मन माफिक नही मिलेगी, इसलिए हर प्रकार की पिच पर बैटिंग, बोलिंग की प्रैक्टिस जरूरी है। खिलाड़ियों की कहानी को जानेंगे, तो समझ आएगा कि सभी सुविधाएं उपलब्ध हों जरूरी नहीं, परिस्तिथियाँ अनुकूल हों जरूरी नहीं, मौके मिलेंगे जरूरी नही, सभी इंटरनेशनल लेवल पर खेलें ये भी जरूरी नहीं। लेकिन परिस्तिथियाँ चाहे खेल की हों या जीवन की, नियमित परिश्रम और अनुशासन से ही जीवन में संतोषजनक मुकाम हासिल किया जा सकता है।  तो पहन लीजिए अपनी पेरेंटिंग हैट और तैयार हो जाइये, पेरेंटिंग के इस मैदान में अपनी अच्छी भूमिका निभाने के लिये। आप अपने सुझाव-सराहना-विचार भेज सकते हैं: https://www.facebook.com/thevidyantrikshschool/  या लिखें : TeacherParv@gmail.com  Connect at: https://twitter.com/TeacherParv  TeacherParv Podcasts are available on Spotify, Apple Podcasts, JioSaavn, Google Podcasts, Anchor, Breaker, OverCast, Radio Public, PocketCasts, Castbox.
03:05
February 28, 2021
Vidyantriksh Parenting Series | Ep15 | बच्चों को सम्मान दें | TeacherParv Podcasts
Vidyantriksh Parenting Series | Ep15 | बच्चों को सम्मान दें | TeacherParv Podcasts अपने बच्चों को परिवार में उचित सम्मान देना चाहिए। हमारे जीवन और फिल्मों में बहुत समानताएँ हैं। हम सभी बाल कलाकार के रूप में अपना जीवन शुरू करते हैं, बड़े होकर युवा अवस्था में हीरो/ हीरोइन वाली स्थिति में पहुँचते हैं। फिर समय के साथ हीरो बदल जाते हैं और हम चरित्र अभिनेता के रोल में आ जाते हैं। फिर एक समय ऐसा आता है जब फ़िल्में मिलनी बंद हो जाती है। एक सच्चे कलाकार की तरह ही हमें भी जीवन में सभी अवस्थाएं समान रूप से स्वीकार करनी चाहियें। कल्पना कीजिये ऐसे कलाकारों की जो चरित्र अभिनेता की उम्र में भी हीरो के रोल करते रहे और साथ ही, उन कलाकारों के बारे में जो स्थिति को स्वीकार कर उम्र अनुसार अपनी भूमिकाएं बदलते रहे और अन्य लोगों को हीरो के रुप में स्वीकार किया। आपके परिवार में हीरो कौन है? क्या आप अपने बच्चों को हीरो बनने का मौका देते हैं? हीरो बनने से मतलब है कि न सिर्फ उन्हें अपने जीवन के निर्णय लेने दें, उन्हें परिवार में एक सम्पूर्ण सदस्य के रूप में मान्यता दें, उन्हें परिवार के फैसलों में शामिल करें, फैसले लेते समय उनकी राय लें और उसे महत्व दें और गंभीरता से लें। और उचित समय पर उनके द्वारा लिए गए फैसलों के साथ चलें। यदि सारी उम्र हम ही हीरो रहेंगे, तो हमारे बच्चे बाल कलाकार से सीधे चरित्र अभिनेता की स्थिति में पहुँच जायेंगे और ये गलत होगा। आप अपने सुझाव-सराहना-विचार भेज सकते हैं: https://www.facebook.com/thevidyantrikshschool/ या लिखें : TeacherParv@gmail.com Connect at: https://twitter.com/TeacherParv TeacherParv Podcasts are available on Spotify, Apple Podcasts, JioSaavn, Google Podcasts, Anchor, Breaker, OverCast, Radio Public, PocketCasts, Castbox.
05:11
February 26, 2021
Vidyantriksh Parenting Series | Ep14 | Best Parenting is NO Parenting At All | TeacherParv Podcasts
Vidyantriksh Parenting Series | Ep14 | Best Parenting is NO Parenting At All | TeacherParv Podcasts आपके घर बच्चा पैदा होते ही यदि कोई आपको ये लिखकर दे दे कि आपका बच्चा स्वस्थ रहेगा, ज़िन्दगी में बढ़िया सेटल होगा, उसकी अच्छी नौकरी होगी, घर होगा, गाड़ी होगी, नाम कमायेगा, आदि आदि। तब आपका पेरेंटिंग स्टाइल क्या होगा? क्या तब भी आप हर मिनट चिंता करेंगे कि आपका बच्चा क्या कर रहा है, कितना पढता है, कितने नम्बर आये, कितना खेलता है, कैसे बड़ा हो रहा है, पडोसी उसके बारे में क्या सोचेंगे, कहीं बिगड़ तो नहीं जायेगा, क्या स्टेज से बोल पायेगा, क्या अंग्रेजी में बोल पायेगा, कहीं जीवन में पीछे तो नहीं रह जायेगा, आदि। क्यों नहीं हम अपने बच्चों के जीवन में पेरेंट्स होने के अधिकार से ये जो छेड़खानियां करते हैं, वो बंद कर, ये विश्वास कर लें कि जब समय आएगा, हमारे बच्चे जीवन में कुछ बढ़िया ही करेंगे। ऐसा होने की कल्पना मात्र से ही आपको ख़ुशी का एहसास होगा। यदि वास्तव में हम अपने डर को जीत कर ऐसा कर पाएं तो, जीवन बहुत आसान हो जायेगा। आपके और बच्चों के जीवन में कितना आनंद, शांति और सकून होगा। कुछ ना करें। बस शांति से अपने बच्चों को बड़ा होते देखिये।  कोशिश कीजिये - नो पेरेंटिंग। नोट: और सच तो ये भी है कि उनकी जिंदगी में हमारी दखलंदाज़ी, रिमोट कंट्रोल करने की हमारी आदत भी कहाँ हमारे बच्चों को बढ़िया ज़िन्दगी की गारंटी देती है। आप अपने सुझाव-सराहना-विचार भेज सकते हैं: https://www.facebook.com/thevidyantrikshschool/ या लिखें : TeacherParv@gmail.com Connect at: https://twitter.com/TeacherParv
05:38
February 23, 2021
Vidyantriksh Parenting Series | Ep13 | बच्चों को रिश्तों का विस्तार दें | TeacherParv Podcasts
एक बार  फिर से चलते हैं - सीखने की यात्रा पर! विद्यांतरिक्ष पेरेंटिंग श्रृंखला के साथ  Vidyantriksh Parenting Series | Ep13 | बच्चों को रिश्तों का विस्तार दें |Expand the World of Relations for Children | TeacherParv Podcasts कहते है कि माँ बच्चे को जन्म देती है लेकिन उसे पालने के लिए पूरे गावं की जरूरत होती है। यानि बच्चे के पालन पोषण में अन्य रिश्तों और समाज की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। पेरेंटिंग नाम की इस पिक्चर में लीड रोल तो माता-पिता का ही होता है, लेकिन इसमें सहयोगी कलाकार भी उतने ही अहम किरदार होते है। बल्कि कुछ मामलों में तो मुख्य किरदार से भी ज्यादा महत्वपूर्ण साबित होते हैं। दादा-दादी, ताऊ-ताई, चाचा-चाची, नाना-नानी, मामा-मामी, बुआ-फूफा, आपके दोस्त, आपके बच्चों के दोस्त, स्कूल के अध्यापक, प्रिंसिपल और न जाने कितने ही रिश्ते ऐसे हैं जो पेरेंटिंग को आनंददायी बनाने में आपकी मदद कर सकते हैं। कुछ साल पहले तक संयुक्त परिवारों में तो बच्चे ये सारे सहयोगी कलाकार ही पालते थे। रिश्ते ही कुछ ऐसे होते थे। लेकिन आजकल सिंगल परिवार हैं तो माता-पिता को लीड और सहयोगी कलाकार दोनों का ही रोल निभाना पड़ता है। इसलिए पेरेंटिंग में आनंद कम और तनाव ज्यादा हो गया है। और इसका प्रभाव बच्चों पर दीखता भी है। इसीलिए पेरेंटिंग का आनंद लेने के लिए और बच्चों की बेहतर परवरिश के लिए अपने आसपास के इन सारे सहयोगी कलाकारों को ढूंढिए और इनकी मदद लीजिये। फिर इस पिक्चर की हैप्पी एंडिंग निश्चित है। Related Episode: Vidyantriksh Parenting Series | Ep5 | The Treasure of Your Friends | विरासत रिश्तों की | TeacherParv Podcasts https://anchor.fm/teacherparv/episodes/Vidyantriksh-Parenting-Series--Ep5--The-Treasure-of-Your-Friends------TeacherParv-Podcasts-epuf5i आप अपने सुझाव-सराहना-विचार भेज सकते हैं: https://www.facebook.com/thevidyantrikshschool/ या लिखें : TeacherParv@gmail.com Connect at: https://twitter.com/TeacherParv
03:59
February 20, 2021
Vidyantriksh Parenting Series | Parveen Sharma | TeacherParv Podcasts
पेरेंटिंग एक ख़ुशनुमा एहसास है। कभी ज़िम्मेदारी-कभी ज़िम्मा- कभी मुश्किल भी और कभी मज़ेदार भी। केवल वो नहीं जो जन्म देने वाले हैं - वो भी तो पेरेंट्स ही हैं जो बच्चों से बाते करते हैं। किसी भी भूमिका में एक पेरेंट ही होते हैं। पहले 12 एपिसोडेस को सुनने के लिए शुक्रिया! We are coming up with another set of Podcasts from Vidyantriksh Parenting Series. The First 12 Episodes made us feel strong and supported by your appreciations. We are sure, the new episodes shall also get the same acknowledgement.  डॉ आरती और श्री अमित डागर जी के विचारों और समझ को आप तक लाने में हमें जो सीखने को मिला है, वह सुखद भी है और एक इनाम भी।  आप अपने सुझाव-सराहना-विचार भेज सकते हैं: https://www.facebook.com/thevidyantrikshschool/ या लिखें : TeacherParv@gmail.com  Connect at: https://twitter.com/TeacherParv
06:47
February 17, 2021
Vidyantriksh Parenting Series | Ep12 | Why Perfect Children | परफ़ेक्ट बच्चे क्यूँ | TeacherParv Podcasts
Vidyantriksh Parenting Series | Ep12 | Why Perfect Children | परफेक्ट बच्चे क्यूँ | TeacherParv Podcasts (Amit Dagar & Dr Aarti) सबको परफ़ेक्ट बच्चे चाहियें - पढाई में अच्छे, तरह-तरह के टैलेंट से भरे, आज्ञाकारी, किसी प्रकार का अनुचित वयवहार ना करने वाले, आदि आदि। लेकिन परफेक्ट बच्चे (और परफेक्ट पेरेंट्स भी) सिर्फ फिल्मों में होते हैं जो DDLJ के शाहरुख़ की तरह फेल होकर भी खुश रहते हैं, गिटार और पियानो बजा लेते हैं, गाना गा लेते हैं, घुड़सवारी और तैराकी कर लेते हैं, दुनियाभर की शरारतें करते हैं, और फिर जरूरत पड़ने पर एकदम संस्कारी हो जाते हैं। सच तो ये है कि बच्चे परफ़ेक्ट होने के लिए होते ही नहीं। परफ़ेक्ट तो प्रोडक्ट होते हैं। और हमारे बच्चे कोई प्रोडक्ट नहीं। बच्चे तो झूठ भी बोलते हैं, जिद्द भी करते हैं, शरारतें भी करते हैं, छोटी-मोटी चोरी भी करते हैं, कहना भी नहीं मानते, पढाई में फेल भी हो जाते हैं, अपने भविष्य के प्रति लापरवाह भी होते हैं आदि। और न जाने कितनी आदतें उनमे होती हैं जो हमें पसंद नहीं होती। तो ऐसे बच्चे किसे पसंद होंगे। किसी को नहीं। अधिकतर पेरेंट्स के ऐसे बच्चों के साथ रिश्ते बढ़िया नहीं होते। धीरे-धीरे पेरेंट्स इन्हें नकारा-निकम्मा कहकर बिलकुल ध्यान देना छोड़ देते हैं। गलत है। तो क्या करें। सबसे पहले तो समझिये कि क्या बच्चे हमारी पसंद-नापसंद के लिए बने हैं? दूसरा, अपने बच्चों को परफेक्शन के तराज़ू में तोलना बंद करें। हमें उन्हें पैंट-शर्ट की तरह नहीं देखना चाहिए जिन्हें हम कांट-छाँटकर करके अपने साइज (सोच) के हिसाब से तैयार करवा सकते हैं। बच्चे हैं। उसके बाद समझिये कि उनके किस वयवहार को आप इग्नोर करेंगे और किस पर आपको उन्हें कॉउंसेल करने की जरूरत है (ये आपकी पेरेंटिंग स्टाइल पर निर्भर होगा)। पेरेंटिंग में सबसे महत्वपूर्ण है- धैर्य, जो सुनील दत्त जैसा चाहिए (जिन्होंने हज़ार कमियों के बाद भी अपने बेटे संजय दत्त का साथ नहीं छोड़ा)। इन सारी बातों का निचोड़ ये है कि हज़ार कमियों के बाद भी अपने बच्चों को प्यार करने के बहाने ढूंढिए। आपने उन्हें जन्म दिया है।
02:20
February 5, 2021
Vidyantriksh Parenting Series | Ep11 | Clarity in Parenting | पेरेंटिंग में स्पष्टता | TeacherParv Podcasts
Vidyantriksh Parenting Series | Ep11 | Clarity in Parenting | पेरेंटिंग में स्पष्टता  | TeacherParv Podcasts (Amit Dagar & Dr Aarti) आपकी पेरेंटिंग की शैली कुछ भी हो, उसमें एक निरन्तरता और स्पष्टता जरूर होनी चाहिए। कहते हैं यदि आप कोई गलती करते हैं तो उसमें भी कंसिस्टेंसी होनी चाहिए। आपके बच्चों को ये पता हो कि किसी बात, विचार या स्थिति में आपका एक्शन, रिएक्शन क्या होगा। उन्हें दुविधा में न रखें। काफी संख्या में बच्चे अपने पेरेंट्स के एक्शन, रिएक्शन को समझ कर ही काम/ व्यवहार करते हैं। इसलिए अपनी सोच और पेरेंटिंग में conscious ओर consistent रहें। जरूरतानुसार, उसमें बदलाव करना चाहिए, फ्लेक्सिबल भी होना चाहिए। और बहुत जरूरी है कि बच्चे चाहे अपने हों या किसी और के, आपकी सोच वही होनी चाहिए। हाथी के दांत........ वाली बात नही होनी चाहिए।
00:58
February 5, 2021
Vidyantriksh Parenting Series | Ep10 | Preaching to Children | बच्चों को नसीहत | TeacherParv Podcasts
Vidyantriksh Parenting Series | Ep10 | Preaching to Children | बच्चों को नसीहत | TeacherParv Podcasts (Amit Dagar & Dr Aarti) बच्चों को नसीहत कम से कम दें। कोशिश करें कि उन्हें सही या गलत व्यवहार न सिखाएं। क्यूँकि अक्सर ये होता है कि हम बच्चों को वो नही करने की सलाह दे रहे होते हैं जो हम खुद कर रहे होते हैं। उदाहरण -tv कम देखो, मोबाइल का प्रयोग कम करो। देखें कि हम ये दोनों काम कितना ज्यादा करते हैं। दूसरा, सही और गलत व्यवहार सिर्फ आपकी सोच है। और आपकी सोच अंतिम सत्य तो नही। तीसरा, जो आपकी सोच है वो किन्ही अन्य हालातों ओर समय की बनी हुई है, जबकि जिस समय में आपके बच्चे जी रहे हैं वो बिल्कुल अलग है।
00:52
February 5, 2021
Vidyantriksh Parenting Series | Ep9 | Conscious Parenting | कॉन्शियस पेरेंटिंग | TeacherParv Podcasts
Vidyantriksh Parenting Series | Ep9 | Conscious Parenting | कॉन्शियस पेरेंटिंग | TeacherParv Podcasts (Amit Dagar & Dr Aarti) यदि हम कॉन्शियस पेरेंटिंग करें तो समय समय पर बच्चे हमें अपने व्यवहार और बातों से संकेत देते रहते हैं कि उनकी हमसे क्या उम्मीदें हैं। उनका शारीरिक विकास तो हमें दिख जाता है, पर उनके मानसिक विकास ओर सोच  को समझने के लिए हमें उनकी बातों को समझना जरूरी  है। उनकी बातों ही में से संकेतों को समझकर आप अपनी पेरेंटिंग में जरूरत अनुसार बदलाव कर सकते हैं। इसलिये बच्चों से बात करते समय उन्हें ध्यान से सुनें। उनकी किसी भी बात को "बच्चा है" कहकर नज़रअंदाज़ न करें।
00:50
February 5, 2021
Vidyantriksh Parenting Series | Ep8 | Let Them Show-Off | शो ऑफ भी करने दें बच्चों को | TeacherParv Podcasts
Vidyantriksh Parenting Series | Ep8 | Let Them Show-Off | शो ऑफ भी करने दें बच्चों को| TeacherParv Podcasts (Amit Dagar & Dr Aarti) शो ऑफ भी करने दें बच्चों को। बहुत बार आपने देखा होगा कि बच्चे (काफी बड़े होने तक भी) हमें ऐसी बातें बताते हैं जो हमें पता होता है कि सच नही हो सकती। कभी ये खुद की तारीफ करते हुए ऐसा करते हैं और कभी कुछ ऐसी बातें बताकर जो उन्हें लगता है हमें अचंभित कर देंगी। इसे शो ऑफ कह सकते हैं। जब बच्चे ऐसा करते हैं तो ज्यादातर हम तुरन्त उन्हें बता देते हैं कि उनकी बात में कोई दम नही, कभी कह देते हैं कि बात झूठी है, कभी कि इतनी लंबी लम्बी क्यों फेंक रहा है आदि आदि। मत कीजिये ऐसा। सोचिए, हम बड़ों को ईगो मसाज (अहम संतुष्टि) कितनी अच्छी लगती है। तो यही मसाज बच्चों को अच्छी क्यों नही लगेगी। इसलिए उन्हें भी इसका आनंद लेने का अधिकार दीजिए। करने दीजिए उन्हें शो ऑफ। जिस रिएक्शन की वो आपसे अपेक्षा रखते हैं वह दीजिए उन्हें। विश्वास कीजिये उनकी शो ऑफ का। समाज मे सौ लोगों की ईगो मसाज करते हैं, फिर अपने बच्चों को इसका आनंद देने  में क्या नुकसान है। हर बार सही व्यवहार सिखाना जरूरी नहीं। ये भी व्यक्तित्व का हिस्सा है।
01:27
February 5, 2021
Vidyantriksh Parenting Series | Ep7 | Teach for Future | भविष्य के लिए सिखाएँ | TeacherParv Podcasts
Vidyantriksh Parenting Series | Ep7 | Teach for Future | भविष्य के लिए सिखाएँ  | TeacherParv Podcasts (Amit Dagar & Dr Aarti) बच्चों को वही बताएं ओर सिखाएं जो उन्हें भविष्य में काम आये। भूतकाल में क्या हुआ और वर्तमान में क्या हो रहा है उससे उन्हें बहुत मदद नही मिलेगी। क्योंकि जीना उन्हें आने वाले समय में है। ध्यान ये देना है कि भविष्य में हमारे बच्चे समाज मे misfit नही होने चाहिएं। समय के साथ चलना जरूरी है। कामयाब वही चीज होती है जो आने वाले समय को समझ कर की जाए। बहुत सारे सफल व्यवसाय इसका बढिया उदाहरण हैं। नोट: बढिया पेरेंटिंग का कोई तय फॉर्मूला नही। आपके बच्चों के स्वभाव और आपके अनुभव के आधार पर ही आप निर्णय कर सकते हैं
00:57
February 5, 2021
Vidyantriksh Parenting Series | Ep6 | What if Kids Lie | बच्चों का झूठ| TeacherParv Podcasts
Vidyantriksh Parenting Series | Ep6 | What if Kids Lie | बच्चों का झूठ| TeacherParv Podcasts (Amit Dagar & Dr Aarti) हर बार बच्चों का झूठ पकड़ना जरूरी नहीं कई बार ऐसा होता है कि बच्चे हमें झूठ बोल देते हैं। उदाहरण के लिए, आप कहीं बाहर से आये और बच्चे tv देख रहे हों। आपको देखते ही tv बंद करके पढ़ने या कुछ और करने लग जाते हैं। आपको घर में आते ही पता चल जाता है कि बच्चे tv देख रहे थे। आप पूछते हैं तो बच्चे मना कर देते हैं। अब आप उन्हें अपनी शक्ति प्रदर्शन के लिए कहते हैं कि आपको पता है कि वो tv देख रहे थे। बच्चों को पता है कि उन्होंने झूठ बोली है, वो पहले ही गिल्टी होते हैं। ऐसे में यदि आप भी उन्हें झूठा साबित करने पर उतारू हो जाएं तो कितना सही होगा। हर बच्चे में बड़ो जितनी ही सेल्फ एस्टीम होतो है। हमें उसे हर बार चोट पहुंचने की जरूरत नहीं होती। कुछ ऐसी झूठ जिनसे बच्चों का कोई नुकसान नहीं हो, उसे पकड़ने की जरूरत नही। हम सबने अपने बचपन मे झूठ बोली है, शरारतें की हैं आदि। इसलिए बच्चों को सुई की नोक से निकालने की कोशिश न करें।  आप बच्चों की बात मान लीजिए कि वो tv नही देख रहे थे। बहुत जरूरी है कि हम बच्चों की हर गलती पर उन्हें ये महसूस न करवाएं कि वो गलत हैं।
01:32
February 5, 2021
Vidyantriksh Parenting Series | Ep5 | The Treasure of Your Friends | विरासत रिश्तों की | TeacherParv Podcasts
Vidyantriksh Parenting Series | Ep5 | The Treasure of Your Friends | विरासत रिश्तों की| TeacherParv Podcasts (Amit Dagar & Dr Aarti) विरासत रिश्तों की विरासत में हम अपने बच्चों को क्या देते हैं? मेरी नजर में सबसे कीमती विरासत जो हम उन्हे दे सकते है, वो है हमारे रिश्ते ओर मित्र। होता क्या है। हमारे मित्र हमसे मिलने घर आते हैं, तो बच्चों को देखकर अक्सर हम यही कहते हैं कि बच्चों अब तुम अंदर जाओ। कहीं मित्रों से मिलने जाते हैं तो कहते हैं बच्चे क्या करेंगे। यहीं पर हम उन्हें अपने मित्रों से अलग कर देते हैं। हमारे अंतरंग रिश्ते उनके लिए अनजान ओर पराए हो जाते हैं। पिछले वर्ष बैंगलोर गया था मेरे स्कूली दोस्तों से मिलने। मेरे लिए उन्होंने, ब्रेकफास्ट, लंच पार्टी रखी थी। मुझे देखकर बहुत खुशी हुआ कि लगभग सभी दोस्त अपनी पत्नी और बच्चों को साथ लाये थे। जबकि मैं बेटी को साथ नही ले गया था। मुझे महसूस हुआ कि मैंने उसे कितने रिश्तों से वंचित कर दिया। पिछले साल, कुरुक्षेत्र यूनिवर्सिटी के रजिस्ट्रार डॉ भगवान सिंह घर आये थे तो उन्होंने बेटे के बारे में विस्तार से पूछा। फिर बेटी को बुलाया ओर मुझे ओर आरती को छोड़कर संजीवनी को पास बिठाकर आराम से काफी देर बातचीत की। जब भी हमारे मित्र आएं तो हमें उन्हें अपने बच्चों से जरूर मिलवाना चाहिए। इतनी जान पहचान करवानी चाहिए कि कभी आप घर पर न हों तो  स्वतंत्र रूप से भी हमारे बच्चे उनसे मिल सकें। आप किसी के घर जाएं तो उनके बच्चों से जरूर मिलें। सिर्फ दिखावे के लिए नही, संजीदगी से। ये रिश्ते बहुत महत्वपूर्ण हैं हमारे बच्चों के संसार का दायरा बढ़ाने के लिए। जहां बच्चे सामाजिक होना सीखते हैं वहीं हम उन्हें कुछ भरोसेमंद अनमोल रिश्ते भी देते हैं जो जीवन भर उनके साथ रहते हैं और जिन्हें वो चाहें तो आगे बढ़ा सकते हैं। आपके रिश्ते ओर मित्रों को आपके बच्चों के भी रिश्ते और मित्र भी बनाएं। ऐसे समय में जब हमारे परिवार छोटे होते जा रहे हैं और हमारे बच्चे जो खुद तक ही सिमटते जा रहे हैं, ये रिश्ते देकर हम उन्हें जीवन के बहुत कीमती पहलू से वापिस जोड़ सकेंगे। देंगे ना आप ये अनमोल विरासत अपने बच्चों को
02:35
February 5, 2021
Vidyantriksh Parenting Series | Ep4 | Financial Awareness | वित्तीय जागरूकता | TeacherParv Podcasts
Vidyantriksh Parenting Series | Ep4 | Financial Awareness | वित्तीय जागरूकता | TeacherParv Podcasts (Amit Dagar & Dr Aarti) पैसा जीवन मे बहुत महत्वपूर्ण है। और अन्य सभी विषयों की तरह बच्चों को इसके बारे में शिक्षित करना जरूरी है। वैसे तो बड़े बड़े ज्ञानियों को जीवनभर इस बात की समझ नही आ पाती, फिर भी बच्चों को यह बताना जरूरी है कि पैसा जीवन मे कितना जरूरी है। कितना कमाना है, कितना खर्च करना है, और कितना बचाना। पहले समय की सोच सिर्फ और सिर्फ पैसा बचाने की होती थी। क्यूँकि पैसा उपलब्ध नही था। आज समय बदल गया है। पैसा हवा पानी की तरह उपलब्ध है। पैसे का मूल्य घट गया है, अहमियत बढ़ गयी है। आज पैसा बचाने से उलट पैसा कमाने ओर खर्च करने पर फोकस किया जा रहा है। पैसे को लेकर जो व्यवहार हम घर में बच्चों के साथ ओर उनके सामने करते हैं उसी से लेकर उनकी सोच बनती है जो उनके साथ जीवनभर रहती है। आप सोचेंगे तो पाएंगे कि हमारी बहुत ज्यादा समस्याओं की जड़ पैसे की कमी या अधिकता में ही निहित होती हैं। इसलिए पैसे को लेकर सोच और व्यवहार के बारे में बच्चों को शिक्षित जरूर करें। ये भी याद रखें कि यही सोच और व्यवहार वो बड़े होकर करेंगे।
01:25
February 5, 2021
Vidyantriksh Parenting Series | Ep3 | Adamant Mind | ज़िद्द | TeacherParv Podcasts
Vidyantriksh Parenting Series | Ep3 | Adamant Mind | ज़िद्द | TeacherParv Podcasts (Amit Dagar & Dr Aarti) परिवार में जब भी जनरेशन बदलती है तो जनरेशन गैप आना स्वाभाविक है। बच्चों में जोश ओर जुनून होता है, बड़ो में ठहराव ओर तजुर्बा। यही अक्सर टकराव या इस गैप का कारण भी बनता है। ओर किसी टकराव की स्थिति को बड़े अपने तजुर्बे के कारण बेहतर सम्भाल सकते हैं।  बच्चों को प्यार से तो फिर भी समझाया जा सकता है, डांट या धौंस से नही मानते। क्योंकि जिद्द करने ओर बहस जीतने में बच्चा खुद का नुकसान नहीं देखता। 10वीं के बाद पापा ने पूछा, क्या सब्जेक्ट लोगे। जैसे बच्चों में एक ईगो होती है अपने आप को होशियार साबित करने की, उसी हौसले से मैंने कहा, नॉन मेडिकल। पापा बोले बेटा, तेरे मैथ में 50 नम्बर भी नही हैं, कैसे चलाएगा नॉन मेडिकल। जिद्द। (मन मे मुझे पता था कि वो सही कह रहे हैं, लेकिन वो उम्र ही ऐसी होती है। आज 50 परसेंट वाले बच्चों को साइंस विषय लेने की जिद्द करते देखता हूँ तो चुप हो जाता हूँ) मैंने कहा, मैं पढूंगा, ओर मेहनत करूंगा। पापा चुप हो गए। मैंने नॉन मेडिकल ली, 11वीं तो कर ली लेकिन 12वीं में फेल हो गया। भले ही मुझे कितनी फालतू बातों पर डांट पड़ी हो, लेकिन फेल होने पर मुझे पापा या मम्मी ने कभी कुछ नहीं कहा। मैंने सितंबर एग्जाम में 12वीं पास की (नॉन मेडिकल से) ओर फिर ग्रेजुएशन आर्ट्स विषयों से पढ़ी। मैं बास्केटबॉल खेलता था। मुझे अच्छा लगता था। ओर बास्केटबॉल में जूते बहुत घिसते हैं। तो जो साथी खिलाडी अच्छे थे, प्रोफेशनल बनना चाहते थे, उन दिनों  वो लिबर्टी के जूते पहनते थे, कुछ खिलाड़ी पावर कंपनी के, ओर साधारण परिवार से आने वाले खिलाड़ी आम जूते पहनते थे। उन दिनों सोल लगवाने का काफी चलन था। मैंने भी एक दो बार तो सोल लगवाई, फिर मैं एक दिन पावर के जूते खरीद लाया। उन दिनों शायद 400- 450 रुपये के आते थे। क्लास वन अफसर का बेटा होने की वजह से मुझे बहुत महंगे भी नही लगे। लेकिन पापा ने जूते देखे तो जो डांट पड़ी मुझे, बता नही सकता। जिद्द। मैंने उस दिन के बाद बास्केटबॉल नही खेली।
02:35
February 5, 2021
Vidyantriksh Parenting Series | Ep2 | Let Them Learn | उन्हें सीखने दें | TeacherParv Podcasts
Vidyantriksh Parenting Series | Ep2 | Let Them Learn | उन्हें सीखने दें | TeacherParv Podcasts (Amit Dagar & Dr Aarti)  पेरेंटिंग और शिक्षा आने वाले समय के हिसाब से हो तो बेहतर। 11वीं में एक दिन पापा ने पूछा कि बताओ चेक ओर डिमांड ड्राफ्ट में क्या फर्क होता है। मुझे नही पता था। फिर क्या था, पहले की तरह डांट पड़ी। फिर जिस दिन डिमांड ड्राफ्ट बनवाने की जरूरत पड़ी पता चल गया। मुझे आज भी इनकम टैक्स के नियमों को लेकर बहुत ज्यादा जानकारी नहीं है। आज तक स्टेज पर खड़े होकर बोलने की जरूरत एक दो बार ही पड़ी है। मैथ कमजोर था लेकिन आजतक उस वजह से कोई परेशानी नहीं हुई है। कुल मिलाकर कहने की बात ये है  कि बच्चों को बहुत कुछ सीखाने की जरूरत नहीं होती सिवाय अपने पारिवारिक संस्कारों के। जब जरूरत पड़ती है बच्चे अपने हिसाब से सीख लेते हैं। ओर यदि कोई एक चीज़ मुझे पेरेंटिंग के बारे में कहनी हो तो वो ये होगी कि आपके बच्चों में किसी प्रकार का डर बिल्कुल नही होना चाहिए। ये डर हम अनजाने में अपने बच्चों में डालते रहते हैं, ऐसा मत करो, वैसा मत करो आदि आदि कहकर। बेखौफ बच्चे कुछ भी कर सकते  हैं जीवन मे। दूसरा, अपने बच्चों की सेल्फ एस्टीम को कभी चोट न पहुंचाए। खुद की नजरों में कमजोर होकर बच्चे कभी कभी तो जीवनभर नही सम्भल पाते। 
01:36
February 5, 2021
Vidyantriksh Parenting Series | Ep1 | Money | पैसा | TeacherParv Podcasts
Vidyantriksh Parenting Series | Ep1 | Money | पैसा | TeacherParv Podcasts  (Amit Dagar & Dr Aarti) पैसा मैं 12वीं में था जब एक दिन पापा ने मुझे 100 रुपये के नोटों की एक गड्डी गिनने को दी। मैंने गिनकर बता दिया और गड्डी वापिस दे दी। नोट देखने के बाद पापा ने मुझे तगड़ी डांट इस बात पर मारी कि मैंने गड्डी के नोटों को सीधा करके एक तरफ से नही लगाया था। ग्रेजुएशन में था जब एक बार मैंने किसी भिखारी को 10 रुपये दे दिए। मम्मी ने बड़े गर्व से पापा को ये बात बताई तो पापा ने कहा अपनी कमाई में से देगा तब पता चलेगा। बास्केटबॉल खेलता था तो उस समय पावर के जूते बहुत चलते थे।  मैंने भी 450 रुपये के पावर के जूते खरीद लिए। ओहो, इतनी डांट पड़ी थी कि उसके बाद मैंने बास्केटबॉल खेलना छोड़ दिया था। पैसा पहले सिक्कों में ओर फिर नोट में मिलता था। फिर प्लास्टिक मनी यानी डेबिट/ क्रेडिट कार्ड का जमाना आया। आजकल तो वर्चुअल मनी है। आज की जनरेशन के बच्चे पैसे रखते ही नहीं। ऑनलाइन खुद के वॉलेट में पैसे रखते हैं, वहीं खरचते हैं। कमाल ये है कि पैसे खर्च करके कैशबैक ओर कूपन से ओर पैसे कमा भी लेते हैं । मुझे पैसे कमाने के लिए नोकरी लगने का इन्तेजार करना पड़ा था। हमें तो पैसे की कीमत हमारी जेब में रखे पैसों से ही पता चलती थी और है। दादा, दादी, मम्मी, पापा, व अन्य लोगों आदि से जब कभी पैसे मिलते तो कितने दिन बचा के रखते थे उन पैसों को। थोड़ा थोड़ा खर्चते थे। वर्चुअल मनी की वजह से आज ओर आने वाली जनरेशन को पैसे की कीमत ही नही पता। पैसा कमाने में कितनी मेहनत लगती है ये भी नही पता। इसलिए उनके लिए पैसों की बहुत अहमियत नहीं शायद।
01:55
February 5, 2021
Welcome to Vidyantriksh Parenting Series | विद्यांतरिक्ष पेरेंटिंग शृंखला | Introduction by Parveen Sharma
हरियाणा के जिले 'भिवानी में एक स्कूल है जिसका नाम है - विद्यांतरिक्ष! यह पेरेंटिंग शृंखला अमित डागर जी और डॉ आरती के विचार हैं। आप दोनों विद्यांतरिक्ष के संस्थापक हैं।  Vidyantriksh Parenting Series is recorded based on the content shared by Dr Aarti and Mr Amit Dagar. Through the Facebook posts of Amit ji, TeacherParv Podcast team has got hold of some insightful learnings about Parenting. The content is shared with their permission.  Season 1 brings you 25 Podcasts/Episodes. First 12 Podcasts shall be available 05 Feb Onwards. Stay Tuned to the Channel! Our recordings might fail to pass the quality tests of production but our respect and committment to the Vidyantriksh Vision is the best, by heart! कुछ अलग है ये जगह - किसी अन्य स्कूल से अलग है या नहीं, ये दावा तो नहीं करेंगे हम पर जो नयापन यहाँ दिखा है, वो काफ़ी अलग है उस स्कूली सिस्टम से जिसको हम दिन-रात कोसते हैं। ये भी स्कूल है और प्यार से, मेहनत से, भरोसे से और हिम्मत से खड़ा किया गया है।  यहाँ सीखने-सिखाने की शुरुवात बस मुख्य द्वार से पहला कदम रखते ही हो जाती है। हमारे साथ तो यही हुआ था। हर साल जाना हो रहा था - 30 और 31 जनवरी को, भिवानी चिल्ड्र्न लिटरेचर फेस्टिवल - बाल साहित्य उत्सव में - इस बार कोरोना ने थोड़ा रोका है पर उम्मीद यही कि जाना हो पाये और थोड़ा और सीखने को मिले।  https://www.facebook.com/thevidyantrikshschool/  विद्यांतरिक्ष का विश्वास... हर बच्चा हैं ख़ास... यहाँ शिक्षा वही... जो आपके बच्चों के लिए सही... इसलिए न झूठे नंबर... न फालतू आडम्बर, न चिकनी चुपड़ी बातें... न कोरे आश्वासन, पढ़ाई, खेलों व् अन्य गतिविधियों के साथ, जंक फ़ूड और टीवी से दूर... किताबों के पास, हर सम्भव कोशिश... ईमानदारी से प्रयास, सुनिश्चित हो हर बच्चे का सम्पूर्ण विकास, विद्यांतरिक्ष का विश्वास... हर बच्चा हैं ख़ास...
07:23
February 4, 2021
ये दुनिया हम सब की है - Inclusive Life in the World
ये दुनिया हम सब की है - Inclusive Life in the World
04:53
January 21, 2021
Wonderful World of Podcasts with GDC Chenani JK
Podcasting is something great to learn. Today we have been doing our best to share about EduPodcasts.
03:37
January 18, 2021
The Smart Art and Skills for Podcasting: Alpana Deo (MothersGurukul)
We have started an Online Course - Podcasts in Education. There are more than 150 teachers in it and there are getting to know Podcasting as the next thing in their Teaching-Learning plans, practice and passions.  We got the presence of Alpana Deo, a fabulous Writer, Blogger, Podcaster and an immensely energetic human being in one of our Live Sessions, She spoke well, spoke so much about Podcasting but still, Good People always have More Goodness to Offer - She has sent this Podcast to our Participants. so, here it is to ALL who want to Join Podcasting and Spread Goodness! Her Blog: https://mothersgurukul.com/ is worth visiting: Apart from parenting advice, we also need some me time, some free time. At Mother’s Gurukul, you will find tips and tricks that will make your parenting journey smooth and enjoyable. And along with this, you will also find DIY ideas, some interesting fiction stories, and thoughts from my personal journal to explore in your free time. Her 02 Podcasts are: https://anchor.fm/baton-baton-mein https://anchor.fm/mothers-gurukul-podcast https://twitter.com/alpana_deo/
14:08
January 15, 2021
कविता - बातें - आप सब आए कुछ ऐसा लगा
यह कविता किसी के आने और चले जाने के बीच की बात है।  वो चल दिये और हमें मन है की कहें कि उनके आने से क्या हुआ और अब क्या हो रहा है! जीवन में ये सब भाव आते ही हैं। 2003 में डायरी में नोट हुई थी ये कविता - रूप देवगुण जी की रचना है जितना याद आता है। 
05:58
January 6, 2021
काँच के गिलास - कविता - नए साल पर मेरे दोस्तों के लिए
काँच के गिलास - कविता  - नए साल पर मेरे दोस्तों के लिए 
02:44
December 28, 2020
आनंद राय जी की कविता: मेरी दुनिया
आनंद  राय जी की कविता:  मेरी दुनिया 
02:16
December 17, 2020
गगनदीप चौहान की कविता: लॉकडाउन में बुद्ध
गगनदीप चौहान की कविता: लॉकडाउन में बुद्ध  
00:56
December 16, 2020
नेपथ्य से तुम - एक और कविता - टूट जाने का डर
नेपथ्य से तुम - एक और कविता - टूट जाने का डर  Poem in HINDI 
01:50
December 16, 2020
बोधिसत्व - कविता_ छोटा आदमी
बोधिसत्व - कविता_ छोटा आदमी यह कविता और बोधिसत्व जी की और रचनाएँ भी, मन के उन कोनों के लिए हैं जहाँ हम धूल जमा बैठे हैं। आइये थोड़ी हवा चलाते हैं - गर्द हटाते हैं। 
01:45
December 5, 2020
What Makes a Good Teacher GREAT
What Makes a Good Teacher GREAT We recorded it live in the Faculty Induction Prog of HRDC GJU
03:24
December 1, 2020
Live With Teachers at FDP - BRAU and AUD
Learning is Learning when it never stops. We should aim at Incremental Changes in our teaching.  This podcast is also part of the mission to bring in the EduPodcasts to teachers. This time faculty from various HighrEd institutions are there in the FDP organised by BRAU Srikakulum and Ambedkar University Delhi.  They suggested Topics to speak on and I made this amalgamation of the wonderful tips and suggestions they gave.  It shows, teachers do think of the world around them  - not just the curriculum and exams. 
04:50
November 28, 2020
Invitation to Teachers to Be in Podcasting
Invitation to Teachers to Be in Podcasting Send us VOICE Message!
00:53
November 2, 2020
निशा कुलश्रेष्ठ | हम बचे रहेंगे | नेपथ्य से तुम | कविता
निशा जी के कविता संग्रह " नेपथ्य से तुम" में बहुत सारे बेशकीमती मोती हैं। प्यार को इतने प्रेम से पिरोया हैं आपने - हर कविता अपनी सी ही लगती है। विकल्पों की कोई खोज नहीं करनी पड़ती - निशा जी ने बातें ही मन की कह दी हैं! कविता: हम बचे रहेंगे कवि: निशा कुलश्रेष्ठ संग्रह: नेपथ्य से तुम प्रकाशक: बोधि प्रकाशन  https://www.amazon.in/Nepathya-Se-Tum-Nisha-Kulshrestha/dp/9386253240
06:13
November 2, 2020
Live with Learners! (NCERT-CIET Webinar LIVE)
Live with Learners!
01:19
October 29, 2020
Gandhi Ji and His Presence in Our Life - हमारे गांधी
'Generations to come will scarce believe that such a one as this ever in flesh and blood walked upon this earth.' Albert Einstein हमारे गांधी उतने ही अपने हैं जीतने अपने हमारे परिवार के लोग या दोस्त हैं।  आइये उन्हें जानते हैं! 
03:40
October 1, 2020
केदारनाथ सिंह जी: शहर में रात और चुनाव की पूर्व संध्या पर - कवितायें
केदारनाथ सिंह जी की भाषा प्रातिरोध की भाषा तो लगती ही है परंतु भावों को प्रेम में पिरो कर जादू भी करती हैं।  कटाक्ष हो या चुप्पी वाली गहनता।  आइये सुनते हैं - कुछ अपना!  बिजली चमकी, पानी गिरने का डर है वे क्यों भागे जाते हैं जिनके घर है वे क्यों चुप हैं जिनको आती है भाषा वह क्या है जो दिखता है धुँआ-धुआँ-सा वह क्या है हरा-हरा-सा जिसके आगे हैं उलझ गए जीने के सारे धागे यह शहर कि जिसमें रहती है इच्छाएँ कुत्ते भुनगे आदमी गिलहरी गाएँ यह शहर कि जिसकी ज़िद है सीधी-सादी ज्यादा-से-ज्यादा सुख सुविधा आज़ादी तुम कभी देखना इसे सुलगते क्षण में यह अलग-अलग दिखता है हर दर्पण में साथियों, रात आई, अब मैं जाता हूँ इस आने-जाने का वेतन पाता हूँ जब आँख लगे तो सुनना धीरे-धीरे किस तरह रात-भर बजती हैं ज़ंजीरें
04:06
September 21, 2020
हिन्दी प्रेम की भाषा है | हिन्दी दिवस पॉडकास्ट | Hindi Diwas Podcast
हिंदी एक आनंद है जो हम तब पाते हैं जब हम अपने मन से किसी से बात करते हैं और वो भी हमसे मन से ही बात करता है। ये मन ही है हिंदी। हमारा मन! और जब आप मन से बात करें तो ये डर हटा दें कि मन इधर-उधर भी तो लगा रहता है। हम जिस तरह से लौट कर अपने घर, अपने नीड़ की ओर आते ही हैं, हिंदी वही नीड़ है जिसका खोना केवल मात्र तभी हो सकता है जब हमें ही लालच हो कुछ और पाने का।  भाषा ने हमें सभ्य बनाया और प्रगति हमें तब मिली जब हमें यह समझ आया कि हर भाषा एक संस्कृति की, एक सभ्यता की धुरी है। हिंदी को तो हम भारत की हर भाषा में ऐसे पाते हैं जैसे जल होता है। हर भाषा सीखें और हिंदी में जियें!  आईए लिखें प्रेम, कहें भी और सुनें - हिंदी में! This Podcast is dedicated to our Hindi and with immense love for each language of the world. We wish the way we love our language and respect the languages spoken by any other human, they also reciprocate. But, without spreading love, we won't get it back.  तुम बचपन से लेकर यौवन तक-साथ हो जो सीखा है तुम रही हो उसमें और जो सीखना है उसका भी माध्यम मूलत: तुम ही रहोगी! तुम शाश्वत उपस्थिति हो तुम सकारात्मक परिस्थिति हो तुम भरी पड़ी हो भावों से आयी हो कितने मुश्किल पड़ावों से किसी को जकड़ना हो अगर तो बस तुम्हें ही चोट पहुँचाना क़ाफी है सदियां गुज़री हैं तेरे साथ और तुम्हें मानकर! तेरा सम्मान करना सबके प्यार का सम्मान करना है और तुझे सीखना  सोचना सीख लेना है! तुम कविता कहळवती हो तुम कहानियाँ रचवाती हो तुम टूटमूईया-बेतरतीब लिखवा देती हो पर... तुम एक दिन मात्र बन के रह गयी हो तुम्हें मानने-अपनाने के लिए अब सरकारी आदेश आते हैं तुम तो सार्वभौमिक थीं ये क्या... तुम इतनी कमज़ोर कैसे हो गयीं  या के? तुम तो अब भी मज़बूत-सबल हो परंतु तुम्हें बोलने वाले अब निरीह-शिथिल हो चुके हैं हाइब्रिड जीवन जीने वालों ने तुम्हारा मोल भाव किया है अपनी नयी सीखी भाषा से... हिन्दी... तुम आधुनिकों को अच्छी ना भी लगो  तो... तो क्या हुआ... मैं तो अब भी तुमसे ही सोचता-कहता हूँ और मेरे जैसे और भी है...बहुत सारे-सब हमारे!
06:03
September 14, 2020
Live with AGI Uttrakhand Teachers
This is a Live recording with the participants at AGI FDP.
02:15
September 13, 2020
गुरुदेव टैगोर और अटल जी के साथ उनकी कविताएं
कम बोलने और ज़्यादा कहने का मन है - सो, 'एकला चोलो रे' वाले बाबा, हमारे अपने गुरुदेव टैगोर का हाथ थामा है और साथ ही मांगा है एक मोती श्री अटल बिहारी वाजपेयी से भी।  'प्रार्थना' है गीतांजली से और 'ऊँचाई' है मेरी इक्यावन कविताएं से! आइये थोड़ा साथ-साथ चलते हैं - कुछ अपना सुनते हैं!  This recital of the Poems of Gurudev Tagore and Shri Atal Bihari Vajpayee is part of the literary heart of TeacherParv.  Teachers have so much to say, not just the grammar rules or codes or formulas - they do read poems. TeacherParv Podcast invites them all to bring the BEST of Themselves to Teaching and Learning, to Students!
04:48
September 12, 2020
पढ़ाने वाले का जीवन कितना काव्यात्मक होता है!
पढ़ाना और किसी के जीवन को पढ़ लेना एक-दूसरे के पर्याय ही हैं। कुछ भी कहता हो संसार, जो आनंद पढ़ाने में है, वो किसी और काम में कम ही आता है।  इसलिए भी कि एक शिक्षक बनकर आप सब कुछ तो कर सकते हैं - आपसे पढ़कर ही, सीखकर और समझकर ही तो सभी तरह के लोग निकलते हैं - डॉक्टर भी और फौजी भी - मिस्त्री भी और लेखक भी।  हाँ, आपका उनको सही से थामे रखना - कुम्हार के चाक की भांति, बस यही ज़रूरी है।  Happy Teachers' Day! From the book: कोने का केबिन (Koney Ka Cabin): बस बातें- कविताएं!  बूंद भर उम्मीद समेट कर ले जाता है कतरा कतरा टटोलता है आशा और तराशने की तलब बढ़ाता जाता है दिन-दिन रात-रात जगता है सवालों के साथ सोया हुआ मिलता हैं कई बार घिरा हुआ जवाबों की जमहाई में दीवारों के बीच एक हरियाली पतंग बन उड़ता है थामता है कांपते मन माँगता है साथ ज़्यादा-सबसे बात करता हुआ सीखता जाता है। कई-कई बार तराज़ू में तुलता है-हल्का हो जाता है बाँटकर सब अपना ज्ञान! अपनी किताबें साँझी करता है- अपने घर-परिवार का कर लेता है विस्तार कभी मैदान की तरफ भाग लेता है खेलने को नन्हों के साथ और कभी रूमानी हो जाता है भीग बारिश में! हर दोहरा मानी संभाल लेता है- गर्मियों के खाली दिनों में बड़ी उदासी से चुप रहता है- सावन बन आते हैं वापस सुनने वाले तो बरस पड़ता है-खूब बोलता है छुट्टियों के बाद। अपने गुरुओं को याद रखता है- वैसा-सा ही बनना चाहता है। एक कुम्हार का संसार जैसे चाक पे होता है तैयार... सारी उम्र चाक बन घूमता है... मिट्टी को थामे रखता है... जब तक रूप नहीं लेती सही! एक पढ़ाने वाले का जीवन कितना काव्यात्मक होता है... कुछ भी कहो... अच्छा ही होता है! 
02:30
September 5, 2020
Teachers' Day and Our Learning
Wishing You all a Happy Teachers' Day! Teacher's Prayer I want to teach my students how To live this life on Earth. To face it's struggles and it's strife And to improve their worth. Not just the lesson in a book Or how the rivers flow, But how to choose the proper path Wherever they may go. To understand eternal truth And know the right from wrong, And gather all the beauty of A flower and a song. For if I help the world to grow In wisdom and in grace, Then I shall feel that I have won And I have filled my place. And so I ask your guidance, God, That I may do my part. For character and confidence And happiness of heart. -James J. Metcalf
01:55
September 5, 2020
Eklavya on TeacherParv
Eklavya comes to Teacher Parv in this show! He tells us about his podcast and also gives Tips to us to be better at Podcasts. His Podbean Show is available at eklavya.podbean.com
07:25
August 26, 2020
How to Create and Manage Google Classroom
Google Classroom seems to have got a good amount of attention now. Institutions and Teachers across the globe are trying to understand what are ways to use it fruitfully. There are more than enough Video Tutorials on GC and all seem to have said the same. However, what teachers need a quick but subtle description of the features. This Podcast introduces Google Classroom - G Suite Based and the G-mail based as well. We suggest the G-Suite based Classroom to make it worth with all the features that Google For Education is offering to educational institutions.  Listen to the Podcast and refer to the Presentation on SlideShare -CLICK HERE This Podcast is from the PodMOOCs Programme. We are going to Launch that soon - Aimed at introducing you to MOOCs -Creation and Management - via Podcasts. Coming Soon - PodMOOCs
18:57
August 25, 2020
Happy Independence Day INDIA - Serve INDIA by Strengthening YourSelf
What does it mean to be an Indian? It means to be Independent! It also means to be responsible and someone who feels for the country, each part and particle of its life. Living Our Own Lives with utmost honesty and honour is what the nations want to do. It is not about hating someone or boasting to be a patriot, it is about what we have done for our own self and that way we contributed to the Nation Building.  India is not because we are there; We are because India is there. To save it as it has been, in our beliefs and pride, we need to be good at what we do. Be a student, teacher, parent, soldier, businessmen, driver, officer, gardener or even a politician, all have to do their BEST in their ROLE! Love for India! Happy Independence Day! Let's Serve INDIA by Strengthening YourSelf Jai Hind!
08:11
August 14, 2020
मेरे दोस्त के लिए
मित्र, दोस्त, सखा, साथी, सब की सब उपमाएं आप उसे देते हैं जो आपका चुना हुआ, बरकत वाला साथ होता है, हर समय आपके साथ। दूरी हो तो बस जगह वाली, मन हमेशा एक साथ। मेरे दोस्त, मेरे बचपन से बने दोस्त का जन्मदिन और ये पॉडकास्ट!
05:48
August 9, 2020
Screen Recording Tools & Apps
ScreenRecorders are in demand now. We need to know a few which have been used by millions these days. This podcast shares a few. AZ Recorder for Android Phones - https://play.google.com/store/apps/details?id=com.hecorat.screenrecorder.free&hl=en Loom - http://loom.com/ (Online and Cloud Storage) ScreenCastify - https://www.screencastify.com/ (Online and Offline in Browser) ScreenCast-o-Matic - https://screencast-o-matic.com/ (Online and Offline) FreeCam - https://www.freescreenrecording.com/ (Offline - Without Camera Recording)
05:10
August 4, 2020
Converting Files with Format Factory Software
Format Factory provides audio and video converter, clipper, joiner, spliter, mixer, crop. It also includes video player, screen recorder and video downloader! We have been seen many users enjoying the use of this software. On your laptop/desktop, it will surely make it easy for you to convert files with ease.  For more such tips - Read Blogs - http://eklavyaparv.com/ and Keep Listening to The TeacherParv Podcasts! Download Format Factory from - PCfreeTime 
05:41
August 3, 2020
Career and Learning during CORONA - कोरोना काल में करियर और पढ़ाई कैसे (Sach Kahoon Interview)
This interview was telecasted on the Sach Kahoon NEWS - Facebook and Youtube. Host - Anil Kakkar  - Safeguarding Your Employability & Learning - कोरोना काल में करियर और पढ़ाई कैसे? We need to be aware of what we need to do and what we can avoid for now. We also have a need to see our Career Communication and Employability Enhancement Strategy. You can watch the episode at https://www.youtube.com/watch?v=QyZR6AnFdmc&t=934s Read more about Safeguarding Your Career and Learning on http://eklavyaparv.com/
32:30
August 2, 2020
Best Tools for Free Graphics, Images, Video and Image Editing
This podcast brings you Free Tools/Apps/Resources for downloading HD Graphics for your Online or Designing works. You can use them in Blogs, Social Media, Educational or even Commercial works. Visit Pixabay, Pexels, Foter, for Images, Graphics which are free for use. See what its says about use. Images on Pixabay are Attribution Free and can be used for Commercial purpose. Then comes Photo Editing with CANVA which has a fantastic Smartphone App for All types of Graphics and Editing works. You can even generate Video/Slideshow. It is an ocean of things. iPiccy can also be used in the Browser (not a Mobile App) for quality editing. Visit EklavyaParv.com to learn more!
06:12
July 30, 2020
Leading Your Professional Development
You are the master of your own destiny. This is what most of the published and celebrated motivators sell these days. They are not wrong. It is an absolute truth that we become what we think of primarily. This 'think of' is not about the dream but this should be read as 'What We Think of Ourselves'. The simplest methods and the most complex theories of transformation shall lead to only one thing - Do you Lead Your Own Self! https://eklavyaparv.com/eklavyaism/motivation/460-leadership-lessons-in-the-lockdown
07:51
July 22, 2020
HP EdcastCloud MOOCs
My students have been doing these courses and have found them useful for their resume and for a mention in the interview. Why this 'mention' is necessary? Because when you have earned a certificate, you have spent the time to learn some basic things, you want to speak of it. And that is what we need in our efforts - The reason to SPEAK! Blog: https://eklavyaparv.com/edusomedia/edtech/459-hp-edcastcloud-moocs There are a variety of courses (1 Hour) offered by HP, not a small name, rather a name we all know and have used their products as well. These are upskilling courses and shall introduce you to skill-sets which are asked by employers.  SignUP/ Visit the Catalogue/ Join/Enrol in a Course/ Find the Course in your Dashboard/ Complete the Story - Business Concept and Technology Skills assignments./ Submit the Course Feedback/ Your Certificate will be available in 24 Hours and You can present it as the 'stimulator' in your Resume and Interview.  For a better Interview and even for a good Cover Letter/Resume, you need 'ice-breakers' that you plant.   Visit the Website and Learn: https://hplife.edcastcloud.com/
05:39
July 18, 2020
Why to Make a Profile on LinkedIn
LinkedIn is a Socially Professional Website. We make accounts and add the details it asks for in the profile. But what happens once we complete the profile making there? What are the benefits of having a Linkedin profile? Do we get Jobs through LinkedIn? Is there any special advantage over other applicants when it is in your resume? This podcast is to push you to make a Linkedin profile and also to keep it updated! https://www.linkedin.com/in/parveenkumarsharma/
08:08
July 15, 2020
Stench of Kerosene by Amrita Pritam (English - AudioBook/Podcast)
Stench Of Kerosene - Amrita Pritam was recorded around 6 years ago by the students at Amity University NOIDA. Being their teacher of Communication Skills & English, I had given them this assignment o record the stories in their syllabus of First-Year - BTech. There are hundreds of EduSoMedia Podcasts on the web from the 10 year legacy of using Podcasts in Education.  This one is by - Sash, Kshitij, Madhup and Manish.  Amrita Pritam (born 31 August 1919) is a household name in Punjab, being the first most prominent woman Punjabi poet and fiction writer. After partition, she made Delhi her second home. She was the first woman recipient of the Sahitya Akademi Award, the first Punjabi woman to receive the Padma Shree from the President of India in 1969.
11:60
July 11, 2020
Manage Your Lockdown
The Lockdown and the Management
02:40
July 8, 2020
Happy To Help You in Podcasting
This episode is to invite you to launch your own podcasts. If you have been liking and you have found this podcast useful and tempting for you let's initiate your own presence in the world of podcasting. Drop an email and we'll be assisting you, guiding you, to launch your own podcast to the world. (TeacherParv{@}gmail.com
03:50
July 7, 2020
केदारनाथ सिंह - नदियाँ
केदारनाथ सिंह की नदियाँ
02:12
July 6, 2020
It is All About Immunity in Lockdown
What does it mean to train your mind? The training stands for the competence we can inculcate in the shape of self-management. At certain times we do realise that the mind has worked well and managed to ‘manage a possible catastrophe’. This is what we can get if a regimen is followed by us. However, this small post cannot prescribe a solution to make you immune. But the vulnerability can be reduced with some efforts and some cleverly drawn fences. Yes, ‘fence’ is what I just mentioned. I do remember what a poet, the one we got to know well in our English Literature studies, said – Good Fences make Good Neighbours. The legendary Robert Frost did mean that we need to stay aware of who is around but the entry should not be granted without a proper check.  Read this Podcast: https://eklavyaparv.com/eklavyaism/motivation/457-it-is-all-about-immunity
05:59
July 5, 2020
You have a Treasure within yourself
When you read a book sometimes you find the whole story interesting and sometimes you find there is a message for you in the story. I read The Monk Who Sold His Ferrari and found numberless messages for me. I am sharing with you the last page of the book which talks about your own goodness.
04:49
June 20, 2020
Leveraging Podcasts in Education
Technology changes the way we use it. This is the right time we start making use of Podcasts in Learning and Teaching as well. We are advocating EduPodcasts to be added to the core of our planning and preparation of Education.
06:57
June 16, 2020
HUM BHARAT KE LOG - SONG: Preamble to the Constitution of India
HUM BHARAT KE LOG I was having this dream for years and then it came true! We made this, the concept came out so well that I take it as one of the good things I have been able to do. भारतीय संविधान की प्रस्तावना।  Preamble to the Constitution of India Preamble Song is a Salute and a Gift to the Proud Indians on the 68th Republic Day. The composition is a result of the unending love for the motherland.  Concept, Creative Design and Narration: Parveen Kumar Sharma  Music Director and Singer: Vikas Relhan VK Singers (DAV Public School, Kurukshetra): Khushpreet Kaur, Armaan Jaswal, Satyam Dutt, Vishal Sharma, Anshuman Sharma, Udit Girdhar
05:26
June 10, 2020
Resume Components - Explanation (Basics)
Resume is crucial; so is everything. Hence, we need to take care of everything and must not try to ignore the pitfalls we make in our Resume. It is your own presence on a Paper and you cannot afford to make it a poor one. We share a basic description of Components of a Resume. It is as it is: Simple. Once we make a basic one, we shall move to design a Visual or a Modern Resume (though there is no final format). The best Resume is the one that You Will Make! Visit EklavyaParv.com to find blogs on this subject.
12:04
June 8, 2020
A Teacher's Letter to the World Questioning Online Teaching
Not the rants and frustrations but a reply to the Unknowns! Education seems to be the most corrupt of things happening these days and the teachers are the goons making a fool of masses! Besides, this whole online attempt to keep learning on track is all the more mischievous because it is driven by selfishness! Do you believe in these sentiments of the market these days? If yes, this is not a post for you. May you be blessed by what you believe in! Do not worry, we are not taking undue advantage of the lockdown. As teaching is possible only via online mode-during this lockdown, we are doing it via online mode only. The tech-based teaching & learning has been an integral part otherwise as well. Once things get normal, the teacher shall be the first person to unlock the doors and take the dust off from the desks, welcoming the students with a smile! Till then, trust us, support us, guide us and do not instruct us! The Blog can be read at https://eklavyaparv.com/
07:03
June 4, 2020
List of Resume Components
You need to make your Communication with your career a good one. It is not just a linear sending off your resume. It is not just going for an interview and facing the questions. It is a big thing in this age of ultra-advanced preparation by all candidates coming for the job. Your RESUME is your first warrior. When you know this is the first impression you are making, you must ensure this goes as the BEST. This is just a List of the Components, the vessels in which you fill your information, earnings and plans. read more on EklavyaParv.com https://eklavyaparv.com/content/communication-skills/260-resume-writing-profile-creation-convince-the-employer
05:54
June 2, 2020
Self Introduction And the Ways to Introduce
Self introduction is a very crucial skill that everyone wishes to conquer. But when it comes to be aware of the ways, the precautions and the prerequisites of making an impressive introduction, we fail most of the times. It is important to keep in mind that where we give our introduction and to whom we present- these two are actually more significant than the rehearsals we do.
05:16
May 31, 2020
Eklavyaism and EklavyaParv: You Create YourSelf (English)
Eklavya-ism is a concept in learning by self. This is a principle which denotes ‘self-learning’ and ‘self-perfectionism’. It is learning by observation too. In the absence of the teacher, the disciple learns by himself. It is an –ism, an ideology and frequency of thought, in fact, a School of Thought which advocates Self-Learning. Eklavya-ism is the word which stands apt for this movement, methodology, philosophy, approach, or whatever we call it to define. https://eklavyaparv.com/ is based on Eklavyaism and the Celebration of Eklavyahood! You Create YourSelf!
05:31
May 30, 2020
हिंदी से प्रेम कैसे कर पाएंगे हम- Should We FIGHT for Hindi
There remains a debate about prioritising Hindi and cursing English. But we can not do good to Our Hindi by pushing out English or any other language. हिंदी हम सबके आस पास बोली ही जाती है। हम भी बोलते हैं। हम अंग्रेज़ी भी बोलते-सुनते हैं। लिखते भी हैं। परन्तु आज-कल, जो कई बार अभियान छिड़ जाता है वह हिंदी को बचा नहीं सकता, भाषा को दूसरी भाषा से नहीं अपने 'निवासियों' से भय और ख़तरा है। सारी भाषाओं में एक साँझापन है। दुनिया के अलग-अलग हिस्सों में हर भाषा सभ्यता लेकर आई है। कहीं भी यदि संस्कृति है तो भाषा से ही तो है। डरकर और डराकर किसी से प्रेम नहीं हो सकता।
05:15
May 27, 2020
पाताल लोक - Paatal Lok: Why To Watch
Paatal Lok is the latest Web Series Sensation. Jaideep Ahlawat has made his mark on masses now. He will be in a Hall Of Fame for his yet another act of excellence. The Diction, Cultural aspects, Media, The Notions about Muslim Minority, Relationships and Family, LGBT and Social Inclusiveness, the Regional Caste and Communal Canvas.... The appearance of Prahlad Singh Tipaniya with Kabir in the End!
06:02
May 26, 2020
Life for a Teacher (Hindi) शिक्षक का दायित्व
एक पढ़ाने वाले का जीवन कैसे दायित्व वाला होता है! What seems to the Responsibility of a Teacher! (Hindi)
03:19
May 22, 2020
Episode 0 with Akshay Gupta (Team Trial)
Akshay Gupta joins us in the soft launch as well as the Test of Our Podcasting work. He is part of the TeacherParv Podcast Team and shall be one lf the StoryTellers as well. This is a small discussion on the New Normal, Reading and Creativity. Listen to this just as a trial episode for us.
15:07
May 19, 2020
TeacherParv- Celebrating Learning
Teacher Parv is a series of podcasts to bring home a comprehensive understanding about Teaching and Learning. This does not limit itself to classroom or institution related learning. Rather, it goes far ahead than the stereotype definition we have imposed on Teachers and Teaching. We will bring to you a better understanding of Teaching and Learning through Teachers and Learners as the Hosts. Not just this, we shall also have Literary Sessions with Poets, Writers and Public Speakers.
00:58
May 18, 2020