Skip to main content
Heart to Heart Talk

Heart to Heart Talk

By kumar ABHISHEK upadhyay
Hi ! I am Kumar Abhishek, your host, and friend on Anchor FM Podcast who brought you "Heart to Heart Talk" In which contains some interesting talk, that you listen to it, I will keep sharing some poems, songs, Interviews, and motivational stories for you.
नमस्ते ! मैं एंकर एफएम पॉडकास्ट पर आपका होस्ट और दोस्त कुमार अभिषेक हूं, जो आपके लिए "हार्ट टू हार्ट टॉक" लेकर आया है, जिसमें कुछ दिलचस्पी वाली बात है, कि आप इसे सुनें, मैं कुछ कविताओं, गीतों, साक्षात्कारों और प्रेरक कहानियों को साझा करता रहूंगा। आपके लिए
Listen on
Where to listen
Apple Podcasts Logo

Apple Podcasts

Breaker Logo

Breaker

Castbox Logo

Castbox

Google Podcasts Logo

Google Podcasts

Overcast Logo

Overcast

Pocket Casts Logo

Pocket Casts

RadioPublic Logo

RadioPublic

Spotify Logo

Spotify

Stitcher Logo

Stitcher

It is better to forget the troubles at some beautiful point by smiling a little| जरा सा मुस्कुरा कर मुसीबतों को किसी खूबसूरत मोड़ पर भूल जाना ही बेहतर है।
जरा सा मुस्कुरा कर मुसीबतों को किसी खूबसूरत मोड़ पर भूल जाना ही बेहतर है। हमेशा पॉजिटिव सोचे यह\ आपको धोखा नहीं देगा-  | It is better to forget the troubles at some beautiful point by smiling a little|पॉजिटिव सोच का सबसे बड़ा फायदा Hume जीवन को तरक्की की ओर मौड़ देता है। हमारी एक सकारात्मक सोच हमें आनंद से भर देती है। इसका सीधा असर humare दिलो दिमाग पर पड़ता है, जो शरीर में प्रतिकारत्मक शक्ति का विकास भी करता है। सही निर्णय लेने के लिए सक्षम Banan bahut Zaruri है। अगर तुम उस वक्त मुस्कुरा सकते हो जब तुम पूरी तरह टूट चुके हो तो यकीन कर लो कि दुनिया में तुम्हें कभी कोई तोड़ नहीं सकता ! यही पॉजिटिव सोच जीवन में हमे आगे ले जाती है। सकारात्मक सोच का एक गुण यह भी है की कठिन से कठिन परिस्थिति का निवारण बड़ी सरलता से कर देता है। यह पॉजिटिव सोच एक हल्काफुल्का एहसास ही तो है जो Hume सदा तरोताज़ा रखता है। Thanks for Supporter Singers इस कार्यक्रम में जितने भी गीतों को सम्मिलित किया गया है उन कलाकारों का हृदयपूर्वक धन्यवाद करता हूँ। https://youtu.be/HV7J7IqKio4 | Tum Ko Dekha To Yeh Khayal Aaya | Shriram Iyer | Unplugged Cover | Jagjit Singh | Ghazals | Tum Ko Dekha To | Prajakta Shukre | Tribute to Jagjit Singh (Part1) https://youtu.be/QutgwfHO3Go | Bollywood Nostalgia | Kal Ho Naa Ho | Singh's Unplugged Rendition | ft. Gurashish Singh | Cover https://youtu.be/wPbXLjcGQFI | लकड़ी की काठी | Lakdi ki kathi | Popular Hindi Children Songs | Animated Songs by JingleToons https://youtu.be/3bLfzgZ-wO8
14:41
July 13, 2021
GOOD THOUGHTS THAT CHANGE YOUR MIND DIRECT YOU A REAL LIFE STYLE
GOOD THOUGHTS THAT CHANGE YOUR MIND DIRECT YOU A REAL LIFE STYLE | अच्छे विचार जो आपके दिमाग को बदल दें और आपको एक वास्तविक जीवन शैली निर्देशित करें  | good thoughts that change your mind and direct you a real lifestyle | These thoughts created by Mr. Mangesh Upadhyay uploaded from Whatsapp| People illustrations by Storyset Images credit for| 
06:26
June 27, 2021
Rimjhim Gire Sawan Sulag Sulag Jaye Man | रिमझिम गिरे सावन सुलग सुलग जाये मन
Rimjhim Gire Sawan Sulag Sulag Jaye Man | रिमझिम  गिरे सावन सुलग सुलग जाये मन | शीर्षक के आधार पर आइये सुनते है स्वान के कुछ  unplug  नग्मे जो,  गाये है - भव्या पंडित ,राज बर्मन  और मोहित चौहानजी ने 
16:11
June 21, 2021
YAARON DOSTI BADI HI HASEEN HAI यारों दोस्ती बड़ी ही हसीन है \
YARON DOSTI BADI HI HASEEN HAI  | Song Title: Yaaron Dosti Badi Hi Haseen Hai Music Album: Pal Singer: KK Music: Leslie Lewis Lyrics: Mehboob Year: 1999 | 
05:33
June 17, 2021
लोग क्या कहेगे इस बात पर हम यु उलझते जा रहे है। We are getting entangled on what people will say.
लोग क्या कहेगे इस बात पर हम यु उलझते जा रहे है। We are getting entangled on what people will say. | आज के इस शीर्षक में , मैं यहाँ कुछ नामी कुछ, कुछ बेनाम कवियों की कविताये यहाँ प्रस्तुत कर रहा हूँ। कुछ खामिया अवश्य रह गई होगी , क्यों की मैं मनुष्य हूँ भूल के पात्र हूँ। इसलिए क्षमा का अधिकारी भी हूँ।  जीवन का फलसफा भी बड़ा अजीब है उसे कोई समझ नहीं पाया , जिसे हम समझ पाए , वो हमे नहीं समझ पाया। बस सब अपनी अपनी मौज में गुज़र गए । मंज़िल kisi ko नहीं mili। सिर्फ तसल्ली कर लेते है लोग बाकि तलाश तो  ज़िन्दगी के बाद भी जारी रहती है। कविता हमारे जीवन से सम्बंधित कुछ आयामों को परिभाषित करती है। कुछ प्रेरणा , कुछ शिक्षा कुछ कटाक्ष से हमे जगा जाती है। कुछ कवितायेँ मुद्दों को कहती है , तो कुछ दिल के तारों को छेड़ जाती है। कुछ चुभन दे जाती है। मुश्किलें कब रूकती है क्या रुक जाना , या उससे मुँह फेर लेना छुटकारा है । ख़ुशी और ग़म तो एक धूपछांव से है। बहुत सारी बातें प्रश्न बन हमरे सामने खड़ी है। इनायतेँ होती है उसका कोई मोल चुकाया नहीं जाता। बस दिल से शुक्राना अदा कर दीजिये उन्हें सुकून मिल जायेगा।
13:16
May 30, 2021
तू खुद की खोज में निकल, तू किसलिए हताश है। TU KHUD KI KHOJ MEI NIKAL
तू खुद की खोज में निकल, तू किसलिए हताश है।  TU KHUD KI KHOJ MEI NIKAL | THIS IS A POEM OF HINDI MOVIE "PINK" This poem is dedicated to the unique work of Honorable Prime Minister | भारत इतिहास सदियों पुराना हैं। भले ही कोई कितनी ही Bharat ki जनम Patrika Bana  दे पर भारत वर्ष समस्त धरा पर अकेला राष्ट्र था , इसके बाद दूसरे राष्ट्रों की उत्पति हुई। गन्दी राज नीति और गुलाम परस्ती ने इस देश को बहुत नुक्सान पहुंचाया। ग़ुलाम बनानेवाली विचार धारा और दुष्प्रचार ने भारत को गुलाम बनाया। चंद लालची और मक़्क़ार जय चंदो ने ही भारत का विभाजन किया था। कल और आज में बस इतना ही फ़र्क़ है। बीते कल में राजाओ ने प्रांतीय दुश्मनी का हल गद्दार मुग़लो से चाहा और आज गन्दी राजनीती के खिलाडी वाम पंथी विचार धरा के तलवे चाट रहे है। छोडो कल की बाते , कल की बात पुरानी , हम कितने बेचारे थे ये भुल् जायेगे पर अब शौर्य जाग रहा है, भारत जाग रहा है। क्यों की अबतक जो भेड़ बकरियों के झुण्ड में रहने के आदि थे अचानक कोई शेर ने आकर हमे जगाया -अरे ओ भारत के नर सिंहो उठो ! और तुम भेड़ बकरी होने के वहम को झटक दो। एक बार दहाड़ कर तो देखो , ये सभी वामपंथी भेड़ दुम दबाकर भाग जायेगे। आजकी ये कविता भारत के शेर कहे जानेवाले प्रधानमंत्री के नाम समर्पित हैं जिन्होंने हमे गौरव से जीना सिखाया
04:21
May 15, 2021
दूसरों पर ऊँगली उठाने से पहले हमें अपने गिरेबान में झांक लेना चाहिए
दूसरों पर ऊँगली उठाने से पहले हमें अपने गिरेबान में झांक लेना चाहिए  |  भारत में जब कोरोना नहीं था तब उसकी सम्भावना को कहे जानेवाले तत्वज्ञों ने चेतावनी दी थी , और सावधान होने के लिए देश भर में  अभियान सा किया था।  सभी को इस बात पर इतना भरोसा नहीं था के कोरोना आ सकता है , आखिर कार कोरोना का हमला हुआ और अफरातफरी फैली कई लाखो लोगोने अपनी जान गवाई देश के प्रधान मंत्री ने अपना जितना सहयोग हो सकता था किया और उस पर काबू पा लिया , फिर से सब जीवन व्यवहार चलने लगा  उसके बाद फिर से २०२१ में कोरोना का दूसरा राऊंड शुरू होने की आशंका जाएगी पर लोगो ने पिछली शिक्षा से कुछ सीखा नहीं और कोई एहतियात नहीं बरती आज देश में सभी विपक्ष और आम जनता प्रधान मंत्री को  है कोरोना के इस कहर के लिए जिम्मेंदार मानते है।  प्रश्न है कौन है ज़िम्मेदार खुद से पूछे 
07:35
May 8, 2021
Ek Jagruk Nagrik Bane
Ek Jagruk Nagri Bane , के अंतर्गत korona की negativiti को दूर करने का संदेश है।
02:52
April 30, 2021
मजदुर बच्चे और गरीबी (कहानी) - Child Labour and Poverty Hindi Story
मजदुर बच्चे और गरीबी (कहानी) - Child Labour and Poverty Hindi Story| हमारे देश में भले ही बालश्रम (निषेध और नियम ) कानून बना चुकी हैं।  पर उन ठेकेदारों को कौन समझाए जो इन कानूनों को घोलकर पी गए है।  आज बाल मजदुर कही ना कही मिल ही जाते हैं।  आजकी कहानी इन्ही मासूम बच्चो  जीवन से सम्बंधित हैं।  इस कहानी को लिखा है श्री  आशीष जी ने आइये सुनते हैं। Even in our country, child labor (prohibition and rules) has been enacted. But who should explain to those contractors who have drunk and dissolved these laws. Today Bal Mazdur can be found somewhere. Today's story is related to the life of these innocent children. Mr. Ashish ji has written this story, let's hear
06:17
April 20, 2021
डिप्रेशन और आत्महत्या के विरुद्ध एक जीवन संवाद | "A Life Dialogue Against Depression and Suicide
"डिप्रेशन और आत्महत्या के विरुद्ध  एक जीवन संवाद | "A Life Dialogue Against Depression and Suicide | तनाव और डिप्रेसन ये एक आम होती जाती समस्या हैं।  अगर इससे शीघ्र बाहर नहीं निकला जाए तो फिर ये समस्या व्याधि का रूप लेकर जीवन भर हमे जीने नहीं देती | डिअर ज़िन्दगी में प्रकाशित इस लेख को यहाँ प्रस्तुत करने का एक उम्दा प्रयास है |  लेखक श्री सयशंकर मिश्रजी की 
07:26
April 17, 2021
Thokar Par Likha Hain Jeene Ka Saliqa | ठोकर पर लिखा है जीने का सलीका |
Thokar Par Likha Hain Jeene Ka Saliqa | ठोकर पर लिखा है जीने का सलीका | एक ऐसे इंसान की कहानी जो मुंबई की धारावी झोपड़पट्टी में पला बड़ा हुआ , ज़िन्दगी ने कई ठोकरे दी गिरा और संभाला भी।  कभी भूख प्यास ने  सताया तो कभी लोगो ने ,गरीबी का यही इम्तेहान है वो तरसाती रहती है। पर  उस लड़के के पास दुसरो को हंसाने का हुनर था फिर क्या वो पहुँच गया फ़िल्मी दुनिया के फलक पर।  फिर क्या हुआ ? आइये जानते है। The story of a man who grew up in the Dharavi slum of Mumbai, life dropped and handled many things. Sometimes hunger thirsted, sometimes people persecuted, this is the test of poverty. But that boy had the skills to make others laugh, then did he reach the stage of the film world? What happened then ? Let's know
10:60
April 9, 2021
मेरी माँ हमेशा कहती थी। My Mom always used to say
मेरी माँ हमेशा कहती थी। My Mom always used to say|ये एक प्रेरक संवाद हैं मनुष्य और उसकी आत्मा का यहाँ प्रस्तुत करने का एक प्रयास किया हैं।  आशा हैं आपको पसंद आएगा | माँ हमेशा कहती थी की जीवन में जब सारे रास्ते बंद हो जाये तब एक रास्ता हमेशा खुला होता हैं। और उस रस्ते पर चलनेवाला कभी भी निराश और खाली हाथ नहीं लौटता। आज उस रस्ते पर भी चल कर देख लेते हैं। जानते हो दोस्तों वो रास्ता हैं भीतर की आवाज़ का , जब हम दुनिया की भीड़ में चलते चलते थक जाए, जीत और हार के खेल खेलते हुए  :tbt sttB, n;ttNt ntu sttB  तब हमारे सामने सिर्फ एक ही मार्ग होता हैं परमपिता परमात्मा का। आज सीढ़ी उतरकर यही पूछना हैं, mtkmtth btuk Jttu btltqMgt खुश कैसे हैं जिनके पास ना दुनिया की दौलत हैं , शोहरत हैं कुछ भी तो नहीं हैं। ytst btuhu vttmt vt{tuvtxeomt nI, ctulfctujtulmt, rctjzekdtu nI, ctuldtjttumt nI, vth मैं ज़िन्दगी में जिस शांति की तलाश में भटकता रहा जिस चैन सुकून के लिए तरसता रहा वो मुझे fCte नहीं मिला और उनको gtu mtct कैसे मिल गया। ये आपका कैसा न्याय हैं जो कभी आपके मंदिर mteZegttk ltnek atZt rstmtltu ytvtfu mttbtltu fCte nt:t ltne sttuz,u जिसने कभी आपकी पूजा , अर्चना नहीं की नाहीं कभी आपकी चौखट पर सर हि झुकाया। Qlnu, Nttkr;t, ytltk’ सब कुछ कैसे मिल गया जिसके लिए ये दुनिया के लोग मन्नते मानते हैं , व्रत उपवास रखते हैं। आपकी महाआरती , कथा , यज्ञ और ना जाने आपके नाम से कितने भव्य पांडाल रचे जाते हैं। Mujhe Wo Shanti……Wo Sukoon….. Jttu vthbt mtwFt btwLu fgtw vt{tv;t ltnek nwyt ?
09:42
March 30, 2021
Vishwas se Hi Kalpna Sakar Hoti Hain |विश्वास से ही कल्पना साकार होती हैं।
Vishwas se Hi Kalpna Sakar Hoti Hain |विश्वास से ही कल्पना साकार होती हैं। प्रत्येक व्यक्ति का ९० प्रतिशत मानसिक जीवन कल्पना अथवा धारणा पर अवलम्बित हैं। यह एक अद्भुत शक्ति हैं। इसका प्रयोग और उपयोग ही आपको जीवन की संकीर्ण सीमा के पार कर सकता हैं। आपका चिंतन जितना सकारात्मक होगा उसकी छबि आपके दिमाग पर स्पष्ट सन्देश देंगी। यही आपके जीवन के तथ्यों और अनुभवों के रूप में प्रकट होगी। हमारा मन कल्पनाशील हैं ,उसे कल्पना में उड़ना पसंद हैं, इसलिए उसे तरंगी मन भी कहते हैं। आपकी धारणा जितनी परिपक्व होगी उसका परिणाम भी सचोट व् प्रत्यक्ष होगा। , पूर्ण रूपी स्वीकृति का कोई विवाद नहीं होताा और परिणाम भी आपके पक्ष को मजबूत करता हैं।
08:45
March 21, 2021
MahaShivratri Parv | महाशिवरात्रि पर्व
MahaShivratri Parv | महाशिवरात्रि पर्व | शिव समान दाता नहीं कोई, वो प्रसन्न हो जाये तो स्वर्ण नगरी प्रदान कर देते है और अप्रसन्न होने पर कामदेव की भांति भष्म कर देते है। आज का कार्यक्रम शिव के नाम आइये उनकी भक्ति में खो जाये। 
08:39
March 11, 2021
Dusron Ke Bich Khas Hona Hai To Vicharon Mein Laye Badlaav09
Dusron Ke Bich Khas Hona Hai To Vicharon Mein Laye Badlaav09 | दूसरों के बिच खास होना हैं तो विचारों में लाये बदलाव | विचार ही हमारे  जीवन को सफल और निष्फल बनाते है। सफलता तबतक हमें सफल नहीं करती  जबतक की हम सफलता की blue print तैयार नहीं करते।  निष्फलता का भी वैसे ही हैं। इसलिए सकारत्मकता हमारे  जीवन को  उन्नत करता है। Thoughts make our life successful and fruitless. Success does not make us successful unless we create a blue print of success. They are the same for failure. So positiveness enhances our lives | My Contact : 097254 66546
07:34
March 9, 2021
विषकन्या | Poison girl |
विषकन्या | Poison girl |वैदिक साहित्य, लोक कथाओं और इतिहास के अनुसार विषकन्या उस स्त्री को कहा जाता है, जिसे बचपन से ही थोड़ा – थोड़ा विष देकर जहरीला बनाया जाता है । इन्हें विषैले वृक्ष और जीव – जंतुओं के बीच रहने का अभ्यस्त बनाया जाता है । इसी के साथ ही स्त्रियोचित गुणों जैसे गायन, नृत्य और संगीत की शिक्षा भी जाती है । इन्हें सभी प्रकार की छल विद्याओं में माहिर बनाया जाता है, ताकि राजाओं द्वारा इनका इस्तेमाल करके शत्रु राजा को छलपूर्वक मृत्यु के घाट उतारा जा सके । विषकन्या कई प्रकार से शत्रु राजाओं के शरीर में अपना विष पहुँचाने की अभ्यस्त होती है । जैसे विषकन्याओं का श्वास बहुत ही जहरीला होता है । यदि कोई उनका निश्वास अपने अन्दर ग्रहण करें तो कुछ ही क्षणों में वह बीमार हो सकता है या उसकी मृत्यु हो सकती है । विषकन्यायें अपने मुख में विष रखकर भी चुम्बन लेने के बहाने शत्रु के शरीर में विष पहुँचा सकती है ।
07:05
March 6, 2021
आचार विचार और सुविचार | Conduct Ideas and Considerations
आचार विचार और सुविचार | Conduct Ideas and Considerations | शरीर को सुरुचि भोजन और आत्मा को सुविचार  पुष्ट बनाता है। जैसे अनुचित आहार  से शरीर बिगड़ता है ठीक इसी प्रकार से अनुचित विचार से मन और आत्मा दूषित हो जाते है। अभिव्यक्ति आपके आचार विचार और व्यवहार, चरित्र - चिंतन , अध्ययन , अनुभव और संस्कारो का परिचय है। 
06:57
February 27, 2021
सौंधी खुशबू | Saundhi Khushboo
सौंधी खुशबू | Saundhi Khushboo | ये कहानी है संवेदना के छाव की , किसी के साथ को सहेजने की, भीनी भीनी नमी को महसूस करने की। एक अकेला पौधा हो या एक अकेला मनुष्य अपने जीवन के खालीपन को भरने के लिए उत्सुक होता है।  एक खोज रहती है। खिलना और मुरझाना उस बात पर निर्भर करता है की आप कितना स्वयं से जुड़ते है और बिछड़ते है।  किसी जोड़े में से एक का बिछड़ना कितना कष्टदायक होता है। ये बात रामायण में बताई गई है की सारस पक्षी के एक जोड़े  में से एक को आखेटक के द्वारा मारा जाना वाल्मीकिजी ने जब यह देखा तो उन्होंने निषाद को श्राप दिया की जिस प्रणयरत इस जोड़े को तूने मारा है " तुझे कभी शांति नहीं मिलेगी "
09:44
February 22, 2021
ये शाम मस्तानी मदहोश किये जा | Ye Sham Mastani Madhosh Kiye Jaa
ये शाम मस्तानी मदहोश किये जा  | Ye Sham Mastani Madhosh Kiye Jaa | इस सदी के महान गायक किशोरदा  के गाए कुछ नगमे मेरे स्वर में गाने का प्रयास किया है , आशा करता हु आप इसे पसंद करेंगे।  आपके सुझावों की प्रतीक्षा रहेगी।  9725466546 पर आप कुछ कहना चाहेंगे।  Thank you for Mood Music – 20 Soft Bollywood Instrumentals | Jukebox | https://youtu.be/pJAXt1D68IE
11:17
February 18, 2021
HAPPY BASANT PANCHMI | बसंत पंचमी की बधाई
HAPPY BASANT PANCHMI | बसंत पंचमी की बधाई | वसंत का उत्सव प्रकृति की पूजा का उत्सव है। सदैव सुंदर दिखने वाली प्रकृति वसंत ऋतु में सोलह कलाओं में दीप्‍त हो उठती है। यौवन हमारे जीवन का मधुमास वसंत है तो वसंत इस सृष्टि का यौवन। मानव को अपने स्‍वास्‍थ्‍य और जीवन के सौंदर्य के लिए प्रकृति के अनुपम सान्निध्य में जाना चाहिए। निसर्ग में ऐसा जादू है कि मानव की वह समस्‍त वेदनाओं को तत्काल भुला देता है। निसर्ग का सान्निध्य यदि सदैव प्राप्‍त होता रहे तो मानव जीवन पर उसका प्रभाव बहुत ही गहरा होता है।निसर्ग में अहंकार नहीं है। अत: वह प्रभु के अत्‍यधिक निकट है। इसी कारण निसर्ग के सान्निध्य में जाने पर हम भी स्‍वयं को प्रभु के अधिक निकट महसूस करते हैं। सुख-दुःख के समस्‍त द्वंद्वों से परे है - निसर्ग। वसंत हो या वर्षा, अलग-अलग रूपों में प्रभु का हाथ सृष्टि पर फिरता ही रहता है और सम्पूर्ण निसर्ग प्रभु के स्पर्श से निखर उठता है।
05:58
February 16, 2021
Guzar Gaya Jo Chhota saa Fasanaa Tha | गुज़र गया जो छोटासा फ़साना था
Guzar Gaya Jo Chhota saa Fasanaa Tha | गुज़र गया जो छोटासा फ़साना था  कुछ नामी गुमनाम  कवि की रचना यहाँ प्रस्तुति है।  इस  संसार में बहुत सी कलाएं हैं, और इन कलाओं में , सबसे अच्छी कला हैं दूसरों का दिल छू लेना। कवि और चित्रकार में भेद है । कवि अपने स्वर में और चित्रकार अपनी रेखा में जीवन के तत्व और सौंदर्य का रंग भरता है।— डा रामकुमार वर्मा 
06:51
February 13, 2021
बच्चे हमारे राष्ट्र के उज्जवल भविष्य | Bachche Is Rashtr Ke Ujval Bhavishya
बच्चे हमारे राष्ट्र के उज्जवल भविष्य | Bachche Is Rashtr Ke Ujval Bhavishya हर मातापिता को सोचना पड़ेगा की उनका पहला धर्म इंसानियत सिखाना है अगर वो खुद सबक सीखे होंगे तो नहीं तो अनपढ़ ज़ाहिल की भांति अपने बच्चे को सिर्फ आतंकवादी या देशद्रोही ही बना देंगे। हर मातापिता को चाहिए अपने बच्चे को सुविधा तो दे ही पर उसे पैदा करने का हुनर  भी सिखाये , जो बच्चा अपनी आत्म रक्षा नहीं कर सकेगा वो क्या खाक राष्ट्र का निर्माता बन पायेगा। जिसे गिरकर उठना नहीं आता , वोSahare ठोकरों के मोहताज़ होते है। इसलिए अपने बच्चों को सिर्फ तसल्ली नहीं दे, उसे बडासा मैदान दे जहा वो पढाई और करिअर से ऊपर Uthe aur अपने आपको देखे सके समझ सके ।
05:07
February 10, 2021
ऐसी वाणी बोलिए, मन का आपा खोय |Soft spoken people always be liked
ऐसी वाणी बोलिए, मन का आपा खोय |Soft spoken people always be liked   मृदु भाषा के उपयोग से ना केवल दूसरों को सुखद महसूस होता है बल्कि स्वंय के हृदय में भी शीतलता आती है। व्यक्ति का स्वभाव विनम्र कब बनता है ? जब उसका अहम् शांत होने लगता है। वाणी ही हमारा पतन व् उत्थान करती है। एक छोटी si कहानी यहाँ प्रस्तुत कर रहा हूँ। The use of soft language not only makes others feel pleasant but also brings coldness in one's heart. When does a person become polite? When his ego starts to calm down. Speech is our downfall. I am presenting a short story here.
03:41
February 8, 2021
Pal Pal Dil Ke Pas an Instrumental Song | पल पल दिल के पास तुम रहती हो
नमस्कार दोस्तों , Pal Pal Dil Ke Pas Instrumental Song | पल पल दिल के पास तुम रहती हो An instrumental song first time putting in front of you |  प्यार का कोई संवाद नहीं होता सिर्फ एहसास होता है। कुछ आँखों में तो कुछ दिल में वो वो नज़र आता है,उसका कोई शब्द नहीं है , नाही कोई शोर होता है। बस एक सदा उठती है, और प्यार हो जाता है। मै कुमार अभिषेक Anchor Fm केTalk to the Heart में आपका स्वागत है। प्यार एक नैमत है इंसान को कुदरत की ओर से , ये दो आंखे भी नेमत है। , एहसास तो दिल से होता है , पर उसकी झलक आँखों में होती है। हर लम्हा उसी के तरन्नुम में गुनगुनाता है। हवा भी गुज़रे तो जैसे उसका लहराता आंचल महसूस होता है , और रात यादो की बरात लेकर गुज़रती है, पल पल दिल के पास तुम रहती हो। There is no communication of love, just a feeling. In some eyes, in the heart, it is seen, it has no words, nor is there any noise. One always wakes up and falls in love. I welcome to Talk to the Heart of Kumar Abhishek Anchor Fm. Love is a norm for a person from nature; these two eyes are also normal. , The feeling is from the heart, but it is seen in the eyes. Every moment hums in the same place. Even as the wind passes, it feels like waves, and the night passes with memories, you live near the heart.
08:30
February 5, 2021
10 अपेक्षायें जो हमें दूसरों से नहीं रखनी चाहियें (Part-2) (10 things to stop expect from others)
10 अपेक्षायें जो हमें दूसरों से नहीं रखनी चाहियें (Part-2) (10 things to stop expect from others) |करते। आज के समय में हर कोई किसी ना किसी मतलब से आपके पास आता है। जैसे ही उसका मतलब पूरा हुआ वो आपको छोडकर चला जाता है। यहाँ तक कि आपके परिवार के लोग भी, मित्र, रिश्तेदार या जिसे आप सबसे ज्यादा प्यार करते हैं वो भी, बिना मतलब के हमेशा आपका साथ नही देगा। बहुत कम लोग निस्वार्थ किसी का साथ देते हैं। जब आप किसी से अपने दिल की बात या परेशानियों के बारे में बात करते हैं तो ज्यादातर लोग उस बात को हँसी में टाल जाते हैं या उसका मजाक बना देते हैं या फिर आपकी बातों पर ध्यान ही नहीं देते हैं। जिससे आप अन्दर अन्दर परेशान होते रहते हैं, घुटते रहते हैं।
06:51
February 3, 2021
10 अपेक्षायें जो हमें दूसरों से नहीं रखनी चाहियें (Part 1) (10 things to stop expect from others)
10 अपेक्षायें जो हमें दूसरों से नहीं रखनी चाहियें  (10 things to stop expect from others) जब कोई हमारी अपेक्षाओं को पूरा करता है या जैसा हम चाहते हैं वैसा ही करता है तो हमें खुशी होती है लेकिन जब हमारी अपेक्षायें पूरी नहीं होती है तो हम दुखी हो जाते हैं, व्यथित हो जाते हैं, अन्दर से टूट जाते हैं। हर इंसान की सोच (thinking), धारणा (opinion), और समझ (understanding) अलग अलग होती हैं।  इसलिये ये जरूरी नहीं है कि सभी लोग आपकी हर बात से या हर विचार से सहमत (agree) हों, या हमेशा आपका समर्थन करें। यहाँ तक कि आपके माता पिता, आपका सबसे अच्छा दोस्त या पति या पत्नि भी आपकी  हर एक बात से सहमत नहीं होते हैं। दुनिया का हर इंसान किसी ना किसी चीज के लिए संघर्ष कर रहा है। कोई भी Perfect नहीं है। कुछ ना कुछ कमियाँ सभी में होती हैं या कुछ कमियाँ हम दूसरे लोगों में निकाल देते हैं। ऐसा भी कोई नहीं है जो गलतियाँ ना करता हो। थोड़ी बहुत गलती हर किसी से होती है और गलतियाँ करने के बाद ही इंसान सीखता है और अपने आपको पहले से बेहतर बनाता है। इसलिये जिसे आप चाहते हैं, पसंद करते हैं, या आपके परिवार का कोई सदस्य या मित्र, किसी से भी ये अपेक्षा ना रखें कि वो बिल्कुल perfect हो या कभी गलतियाँ ना करें।
09:53
February 1, 2021
Sirf Khud Ke Prati Jawabdehi Baniye | सिर्फ खुद के प्रति जवाबदेह बनिए , 4 लोगों के प्रति नहीं" सुनते रहिये।
Sirf Khud Ke Prati Jawabdehi Baniye | सिर्फ खुद के प्रति जवाबदेह बनिए , 4 लोगों के प्रति नहीं" नमस्कार दोस्तों , आजकी कहानी है खुश कैसे रहा जा सकता है। सच्ची ख़ुशी क्या है। आजकल लोÛों के पास पहले से ज्यादा सुविधा,ं हैं लेकिन बावजूूद इसके किसी के पास पल भर की खुशी नहीं है। हर ,क आदमी खुशी की तलाश में है। दुनिया की सबसे बड़ी टेक्नोलॉजी कंपनी ,प्पल के को-फाउंडर स्टीव वोज्नियाक ने अपने खुश करने का राज दुनिया के सामने शेयर किया है। स्टीव वोज्नियाक का कहना है कि जिंदÛी में खुश रहने के लि, पैसों से ज्यादा जिंदÛी जीने का तरीका मायने रखता है।
04:46
January 28, 2021
72वा गणतंत्र दिवस की सौगात |
72वा गणतंत्र दिवस की सौगात | जहा डाल डाल पर  सोने की चिड़िया करती है बसेरा वो भारत देश है मेरा।नमस्कार दोस्तों , Anchor Fm के Talk to the Heart में मै कुमार अभिषेक आपका हार्दिक स्वागत करता हूँ , २६ जनवरी गणतंत्र दिवस की बहुत सारी बधाई के साथ आज इस ७२ गणतंत्र के पर्व पर देश प्रेम से सने भारत के लोगो की फीलिंग्स और प्रेम को प्रस्तुत करने का प्रयास कर रहा हूँ, आशा करता हूँ आप को पसंद आएगा। धन्यवाद
16:04
January 26, 2021
बसंत बहार (२) |
बसंत बहार (२) नमस्कार श्रोता बंधुओं वसंतोत्सव की बहुत सारी बधाई के साथ Anchor Fm के Talk to the heart में आज मै लेकर आया हूँ "वसंत बहार-2 " जीहा बंधुओ ये है आजके कार्यक्रम का शीर्षक जिसमे हम वसंत की फुहार में झूमेंगे जायेगे मैं कुमार अभिषेक आपका हार्दिक स्वागत करता हूँ सुनते रहिये।  धन्यवाद | वसंत की शुरुआत माघ महीने की शुक्ल पंचमी से हो जाती है। रामायण में महर्षि वाल्मीकि ने वसंत का अत्‍यंत मनोहारी चित्रण किया है। भगवान कृष्ण ने गीता में 'ऋतुनां कुसुमाकरः' कहकर वसंत को अपनी सृष्टि माना है। कविवर जयदेव तो वसंत का वर्णन करते थकते ही नहीं। सतत्‌ आकर्षक लगने वाला निसर्ग वसंत ऋतु में अत्‍यधिक लुभावना लगने लगता है। अपने अनोखे सौंदर्य के कारण वह मनुष्‍यों को आकृष्ट करता है। Basant Bahar (2) Namaskar Listeners With many congratulations of the brothers Vasantotsav, I have brought in the talk to the heart of Anchor Fm today "Vasant Bahar-2" Jiha Bandhu This is the title of today's program in which we will be swinging in the spring show. I heartily welcome you Kumar Abhishek, keep listening. Thank you. Spring starts on the Shukla Panchami of the month of Magha. In the Ramayana, Maharishi Valmiki has given a very beautiful depiction of Vasant. Lord Krishna has considered Vasant as his creation by saying 'Ritunam Kusumakarah' in the Gita. The poet Jayadev does not get tired of describing Vasant. The eternally attractive nature seems to be very attractive in the spring. He attracts humans due to his unique beauty.
09:12
January 25, 2021
बसंत बहार | Welcome Spring
बसंत बहार |  Welcome Spring | यह शीर्षक हर जगह मौसम के सुखद होने का प्रतीक है। पंछी, प्रकृति और इंसान के बीच तालमेल बना रहता है। हवा में खुशबू फैलना, फूल खिलना, भंवर गुनगुनाते हुए वसंत के संकेत हैं | वसंत ऋतु भारत की छः ऋतुओं में से एक है . अन्य पांच ऋतुएँ  हैं — वर्षा , ग्रीष्म , शरद , शिशिर एवं हेमंत . वसंत का आगमन हेमंत ऋतु के बाद होता है .  हिन्दू पंचांग के अनुसार वसंत ऋतु का आगमन हर वर्ष माघ महीने के शुक्ल पंचमी को होता है . ग्रेगेरियन केलिन्डर के अनुसार के अनुसार यह तिथि फरवरी माह के द्वितीय पक्ष या मार्च महीने के प्रथम पक्ष में पड़ती है .वसंत ऋतु में वातावरण का तापमान सामान्य रहता है . प्रकृति की सुन्दर छटा देखते ही बनती है . पेड़ों पर नए पत्तों की कपोलें फूट पड़ती हैं . ऐसा लगता है मानो प्रकृति ने हरियाली और खुबसूरत फूलों से अपना श्रृंगार किया हो . फूलों और फलों की खुशबू से वातावरण मनमोहक बन जाता है . कोयल  की कूक भी इस मौसम की ख़ास विशेषता है | This title symbolizes the pleasant weather everywhere. Birds maintain a synergy between nature and humans. Fragrance in the air, blooming flowers, whirlpools are the signs of a humming spring. Spring season is one of the six seasons of India. The other five seasons are - Rain, Summer, Autumn, Shishir and Hemant. The arrival of spring occurs after Hemant season. According to the Hindu calendar, the arrival of spring occurs every year on the Shukla Panchami of the month of Magha. According to Gregorian calendar this date falls on the second side of the month of February or the first side of the month of March. The temperature of the atmosphere is normal in the spring. Beautiful beauty of nature is formed on seeing it. The cheekbones of new leaves burst on the trees. It seems as if nature has done its makeup with greenery and beautiful flowers. The fragrance of flowers and fruits makes the atmosphere beautiful. Cuckoo's cook is also a special feature of this season.
09:07
January 22, 2021
मन की अधिक ना सुनो Don't listen too much
मन की अधिक ना सुनो | Don't listen too much | मन तो बौराई है उसका क्या ठिकाना , उसका कोई आता पता नहीं।  वो तो एक पवन का झोका सा है कभी फूलो में तो कभी कीचड़ में रहता है। वो हमे कभी रुकने नहीं देता।  जब की आत्मा उसका दूसरा स्वरुप है जो शांत होकर हमे जीवन जीने का सन्देश देता है। Nobody knows what his whereabouts are like. He is like a wind, sometimes in flowers and sometimes in mud. He never lets us stop. When the soul is the second form of it, which gives the message of calm and living life to us
03:27
January 18, 2021
सुकरात और आइना | Sukrat Aur Aieena
सुकरात और आइना | Sukrat Aur Aieena | Talk to the Heart में आपका हार्दिक स्वागत है। व्यक्तित्व का निखार बाहर से नहीं भीतर से होता है। पर आजकल हम सब बाहर ही अपना सारा ध्यान केंद्रित किये रहते है। इसके कारण ही हमारी वैयक्तिक चेतना विकसित नहीं हो पाती है। और हम वैश्विक चेतना में जीते रहते है।
02:48
January 16, 2021
कभी कभी आदमी उसके दिन को बुरा बना लेता है। Kabhi Kabhi Admi Uske Din Ko Bura Banaa Leta Hai .
कभी कभी आदमी उसके दिन को बुरा बना लेता है। Kabhi Kabhi Admi Uske Din Ko Bura Banaa Leta Hai .मनुष्य स्वभाव से ही भविष्य दृष्ट्रा रहा है , वो आजकी नहीं कल की चिंता में डूबा रहता है। पर वो ये भी तो जनता की चिंता से काम संवरते नहीं बिगते है। जब आपकी सोच नकारत्मकता के चिंतन से घिर जाएगी तो वो सही परिणाम कैसे दे सकती है। ये बात अच्छी तरह से समझनी होगी। मै कुमार अभिषेक, आपके सामने एक समझदारवाली बात लेकर आया हूँ। सुनते रहे धन्यवाद Man is looking at the future by nature, he is immersed in the worries of tomorrow, not today. But they also do not spoil the work due to public concern. When your thinking is surrounded by the thinking of negativity then how can it give the right result. This thing has to be understood well. I have brought before you a sensible thing, Kumar Abhishek. Keep listening thank you
03:58
January 9, 2021
हमारा व्यक्तित्व | Our Personality
हमारा व्यक्तित्व | व्यक्तित्व का निखार बाहर से नहीं भीतर से होता है। पर आजकल हम सब बाहर ही अपना सारा ध्यान केंद्रित किये रहते है। इसके कारण ही हमारी वैयक्तिक चेतना विकसित नहीं हो पाती है। और हम वैश्विक चेतना में जीते रहते है। हमारा व्यक्तित्व जिसके अंतर्गत हम कुछ जीवनउपयोगी बाते करेंगे। सुनते रहे। धन्यवाद | Our personality | Personality flourishes not from outside but from inside. But nowadays, we all concentrate outside. It is because of this that our personal consciousness is not developed. And we live in global consciousness. Our personality under which we will talk some useful things. Keep listening. Thank you
03:56
January 7, 2021
पल पल दिल के पास नगमे सुहाने | PAL PAL DIL KE PAS |
पल पल दिल के पास नगमे सुहाने | PAL PAL DIL KE PAS |इस कार्यक्रम के अंतर्गत कुछ सुहाने नग्मों का सफर तय करने की कोशिश की है। जो मुझे अच्छे लगे  कुछ गिनेचुने फूलो की लड़ियाँ आपके सामने मेरी आवाज़ में पेश करने का एक प्रयास।  आशा करता हूँ आप इसे सराहेंगे।  धन्यवाद | Under this program, some pleasant efforts have been made to travel. What I like is an attempt to present the fight of some few flowers in my voice. I hope you appreciate it. Thank you
11:57
January 4, 2021
आखिरी सफर | (Part-02)
 आखिरी सफर | पिछले एपिसोड में हमने देखा की सार्थक कुछ उखड़ा उखड़ा सा कुछ खोया खोया सा रहता था। उसका मन कही नहीं लग रहा था।  और बार बार वो अपने आपको कोसता  रहता था। जैसे उसने अमृता को हमेशा के लिए खो दिया था। अब आगे देखते है क्या होता है। In the last episode, we saw that there was something meaningful, uprooted and some lost, lost and lost. His mind could not seem to be anywhere. And again and again he used to curse himself. Like he lost Amrita forever. Now let's see what happens
12:49
January 2, 2021
आखिरी सफ़र| Last Ride (Part 1)
आखिरी सफ़र| Last Ride | इस कहानी के प्रस्तुतकर्ता है प्रतिलिपि , लेखक है आकाशदीप |  पति-पत्नी का संबंध एक ऐसा अटूट संबंध है जिस संबंध पर तन, मन, धन सबकुछ न्यौछार हो जाता है। यह संबंध है प्रेम का, ये संबंध है उस रिश्ते का जिसे हम दिल और आत्मा से स्वीकार करते हैं। यह वो संबंध है जिसके लिए हम अपने जीवन का सबकुछ एक-दूसरे पर न्यौछावर कर देते हैं।ये कहानी संवेदना से भरे इंसान की है , पश्चाताप की है। दांपत्य जीवन में एक दूसरे को समझने के जीवन जीने की प्रेरणा देती है। केवल काम और पैसा सबकुछ नहीं होता , उसमे  प्यार की फुहारभी होनी चाहिए।  भावो के स्पदन  को भी समझने का समय देना चाहिए।  The relationship between husband and wife is such an unbreakable relationship on which body, mind, money and everything gets invited. This is the relationship of love, this is the relationship that we accept with heart and soul. This is the relationship for which we sacrifice everything in our lives to each other. This story is about a person full of compassion, of remorse. In married life, it gives inspiration to live life by understanding each other. Only work and money is not everything, it should be filled with love. Time should be given to understand the mood of the emotions.
13:01
December 31, 2020
सेल्स में कैसे पाए सफलता | SALES MEI KESE PAYE SAFALTA
सेल्स में कैसे पाए सफलता | SALES MEI KESE PAYE SAFALTA | सेल्स में  सफलता आपको ज़रूरत पैदा करनी होगी। आपको लोगो की ज़रूरत बनानी होगी। आपको कुछ ऐसा करना होगा। जिससे लोग आपके प्रोडक्ट्स में इंटरेस्ट दिखाए। तभी आप सेल्स में मास्टर बन पाएंगे। बातों को बढ़ा-चढ़ाकर मत बोलें या न ही ज्यादा झूठ बोलें। प्रोडक्ट की पोजीशनिंग धारणा बनाने के बारे में है, धोखे से नहीं। बातों को कुछ इस तरह से पोजीशन करें, ताकि उसकी वजह से प्रोडक्ट खुद-ब-खुद ऊँचा उठ जाए। इसका मतलब, कि प्रोडक्ट से जुड़े हुए, चाहे जाने वाले, पॉज़िटिव वैल्यूज वही हैं, जो इसे बेचते हैं। How to achieve success in sales SALES MEI KESE PAYE SAFALTA | You must create success in sales. You need to make a logo. You have to do something like this. So that people show interest in your products. Only then you will be able to become a master in sales. Do not over-speak or over-lie. Product positioning is about making assumptions, not deceiving. Position things in such a way, so that because of that the product automatically rises. This means that the positive values ​​associated with the product, whether known, are the same as those who sell it.
04:25
December 28, 2020
क्या मधुबाला हीरोइन बन पाई | Kyaa Madhubala Heroin Ban Paiee
 क्या मधुबाला हीरोइन बन पाई | Kyaa Madhubala Heroin Ban Paiee | एक ऐसी लड़की की कहानी जो अभिनेत्री बनने के सपने लेकर मुंबई तो आती है। पर फिर शुरू होती है संघर्ष की कहानी। The story of a girl who comes to Mumbai with dreams of becoming an actress. But then the story of struggle begins
06:52
December 25, 2020
लवमंत्र : यह कैसा प्यार है | LOVE Mantra
लवमंत्र : यह कैसा प्यार है | LOVE Mantra | प्यार, रोमांस ये मानवीय भावनाओं का नाम है, अब यह समय बदल गया है, आज के युवा एक जीवन जीते हैं जो वे चाहते हैं, हालांकि, हर कोई इस तरह की छेड़खानी वाले जीवन को नहीं मानता है। लेकिन अधिकांश युवा बिना किसी बाध्यता के मुक्त जीवन चाहते हैं, यह वैसा ही होना चाहिए जैसा वे चाहते हैं, वे हर मामले को इसी तरह चाहते हैं। उनके बारे में छोटी कहानी। कृपया सुनो | Love , Romance these are the name of human feelings, now it's changed by the time, today;s youth live a life what they want, although, not everybody is concidered such a flirting life. but most of youth want a free life without any obligation, it should be like they want, they want every affair likewise.  the short story about them. please do listen
04:19
December 23, 2020
सकारात्मक सोच की कहानी |सफलता का रहस्य|
सकारात्मक सोच की कहानी |सफलता का रहस्य | नमस्कार दोस्तों , हम सब एक विचार सागर में रहते है। इसलिए दुसरो के विचार भी हमारे दिमाग पर असर करते है। पर कुछ लोगो का जीवन एक कंवल की भांति होता है , वो दुसरो का मार्गदर्शन करते रहते है। जिसके द्वारा हमारा जीवन उत्साहित होता रहता है। आप जीवन में किसी भी चीज को पाना चाहते हो, तो उसे आपका बेइंतहा चाहना जरुरी है । मतलब हर समय आपको उसे पाने के बारे में सोचना चाहिए । अगर ऐसा नही है तो शायद आप उसे देर से पाओ या शायद ना भी पाओ । जब सोचने की बात आती है तो ज्यादातर लोग ये नहीं समझ पाते है कि क्या सोचना चाहिए । किसी भी सोच के दो पहलू होते है – एक विधेयात्मक दूसरा नकारात्मक । दोनों का मतलब लगभग एक सा होता है लेकिन इनका दिमाग पर असर ठीक उल्टा होता है ।
05:32
December 21, 2020
लहरों से डरकर नौका पार नहीं होती | Lehron Se Dar Kar Nauka Paar Nahi Hoti
लहरों से डरकर नौका पार नहीं होती | Lehron Se Dar Kar Nauka Paar Nahi Hoti | राष्ट्रीय कवि सोहनलाल द्विवेदी की रचना में जीवन की सफलता का रहस्य छुपा है।  मनुष्य को सिख मिलती है , की छोटी सी ठोकर से गिर जाए तो फिरसे उठकर आगे चलना ही जीवन है , रुकना तो मौत है। " बैठ जाता हूँ मिट्टी पे अक्सर " एक अनामी कवि की रचना है।जो हमें निरभिमान होकर जीवन  रहने  की सिख देता है।   The boat does not cross due to fear of the waves. Lehron Se Dar Kar Nauka Paar Nahi Hoti | The secret of success of life is hidden in the composition of the national poet Sohanlal Dwivedi. A man finds a Sikh, that if he falls from a small stumbling block, he has to rise again and walk forward, to stop is death. "I sit down on the soil often" is the creation of an unnamed poet who teaches us to live life without fear.
07:13
December 15, 2020
आप की आँखों में कुछ महके हुए से राज़ है | Apki Ankho Mei Kuchh Mehke Huve Se Raaj Hai
Hello Dear Listenrs आप की आँखों में कुछ महके हुए से राज़ है | Apki Ankho Mei Kuchh Mehke Huve Se Raaj Hai आज आपके सामने १९७८ में बनी एक रोमांटिक पर पारिवारिक हिंदी फिल्म "घर" का खूबसूरत गीत  प्रस्तुत कर  रहा हु।  फेमल की आवाज़ दे रही है श्रीमती संध्या अटकुरी Director - Release date: 9 February 1978 (India) Director: Manik Chatterjee | Music director: R. D. Burman | Screenplay: Dinesh Thakur | इस गीत को गया है लताजी और किशोर कुमार ने |Scene from Ghar (1978), a family drama starring, Vinod Mehra, Rekha, Dinesh Thakur, Prema Narayan, Asrani, Asit Sen, Madan Puri. Music Director : R.D.Burman, Producer : N.N. Sippy, Director : Manik Chatterjee.
05:24
December 12, 2020
कोई कितने ही फल तोड़े, पेड़ को तो बस फलते ही जाना है।
कोई कितने ही फल तोड़े, पेड़ को तो बस फलते ही जाना है। इस छोटी सी प्रेरक कहानी में, किसी पेड़ से फल तोड़ कर उसे बेझार  छोड़ देना स्वार्थी मनुष्य स्वाभाव का एक उदाहरण है। किसी के उपकार को हम थैंक यू भले ना कहे , पर उसके दिल को ठेस तो ना पहुचाये , ये दुनिया भावना के अभावो में जीने लगी है। इसी लिए लोगो को कदम कदम पर चोंट मिलती है। क्यों की हमारी सुख व्यवस्था ने हमे मशीनी बना दिया है। और जो जड़ होता है उसमे संवेदना नहीं होती।  कहि हमने संवेदना खो दी है अथवा खोते चले जा रहे है। सभी ऐसे नहीं है , पर बहुतायत में,  दिखाई दे रहे है, क्या इसे हम मानवता कहगे , जी नहीं कहि ना कहि मशीनी एजुकेशन ने हमे भावनाविहीन मौड़ पर खड़ा कर  दिया  है।  No matter how many fruits are harvested, the tree has to go on growing. In this short inspiring story, breaking fruit from a tree and leaving it untainted is an example of selfish human nature. We may not say thank you to anyone's benefit, but do not hurt his heart, this world has started living in the absence of emotion. That is why people get a choice on the steps. Because our pleasure system has made us mechanistic. And the root is not in it. Say that we have lost sensation or are going on losing. Not all are like this, but in abundance, we are seeing it, shall we call it humanity, no, no, no, mechanical education has made us stand on emotionless mood.
03:57
December 10, 2020
पैरों के निशान | foot prints (An Inspirational Short Story)
    पैरों के निशान | foot prints (An Inspirational Short Story) जो, परम तत्व परमात्मा में अपनी श्रद्धा  रखते है , उनके  जीवन का एक एक क्षण अमूल्य बन जाता है।  वो जिस जिस कार्य को करते है, वो कार्य एक संवेदना की नमी लिए रहता है , उसमे एक प्रकार से धड़कता जीवन होता है।   इसमें एक कड़वा सच भी है। उस व्यक्तित्व को अमूल्य रत्न के भांति कई परीक्षाओ से गुज़रना  पड़ता है। इस प्रकार  उसकी आभा का विकास ही होता है और वह एक  अलौकित गति को प्राप्त होता है।   एक प्रेरक लघु कथा आपके सन्मुख प्रस्तुत है। भावनाएं कभी मारनी नहीं चाहिए , वो संवेदना को मार देती है, तथापि कुछ लोग भावना विहीन जीए जाते है। मैं कुमार अभिषेक Anchor FM  के Talk to The Heart में आपका हार्दिक स्वागत करता हूँ , सुनते रहे। Footprints | foot prints (An Inspiration Short Story), who hold their reverence in the supreme element God, each moment of their life becomes priceless. The work that he does, that work carries the moisture of a sensation, there is a kind of throbbing life in it. There is also a bitter truth in this. Like that invaluable gem, that person has to go through many trials. In this way his aura develops and he attains a supernatural pace. An inspiring short story is presented to you. Emotions should never be killed, it kills sensation, however some people live without emotion. I warmly welcome you to Kumar Abhishek Anchor FM's Talk to the Heart, keep listening.
03:38
December 6, 2020
इस प्यार को क्या नाम दें: आज के युवाओं की नजर में प्यार क्या है? (What Is The Meaning Of Love For Today’s Youth?)
Hello Dear Listeners, आशा करता हूँ आप सभी ठीक होंगे।  आज मैं आपलोगो के लिए लेकर आया हूँ।  कुछ ऐसी बातें जो सभी के जीवन से जुडी है।   इस प्यार को क्या नाम दें: आज के युवाओं की नजर में प्यार क्या है?  इस शीर्षक के अंतर्गत श्रीमती कमला बडोनीजी की रचना को सुनते है। मै कुमार अभिषेक Anchor fm के Talk To The Heart में आपका हार्दिक स्वागत करता हु। सुनते रहे। Today I have brought you for you people. Some such things which are related to everyone's life. What to name this love: What is love in the eyes of today's youth? Under this title, Mrs. Kamala listens to the composition of Badoniji. I warmly welcome you to Kumar Abhishek Anchor fm's Talk to the Heart. Keep listening.
08:53
December 2, 2020
रिश्तों में बोझ या बोझिल रिश्ते- क्यों और क्या हैं कारण?
रिश्तों में बोझ या बोझिल रिश्ते- क्यों और क्या हैं कारण?| Burden or burdensome relationships in relationships - why and what are the reasons? रिश्ते जीने का संबल, जीने का सबब, एक सहारा या यूं कहें कि एक साथ… रिश्तों को शब्दों के दायरे में परिभाषित नहींकिया जा सकता, उन्हें तो सिर्फ़ भावनाओं में महसूस किया जा सकता है. लेकिन बात आजकल के रिश्तों की करें तो उनमेंना भावनायें होती हैं और ना ही ताउम्र साथ निभाने का माद्दा, क्योंकि आज रिश्ते ज़रूरतों और स्वार्थ पर निर्भर हो चुके हैं. यही वजह है कि रिश्तों में बेहिसाब बोझ बढ़ते जा रहे हैं और हर रिश्ता बोझिल होता जा रहा है. ऐसे में इनके करणों को जानना बेहद ज़रूरी है.
09:56
November 27, 2020
सोच गुलाम है फिर आजादी का जश्न किस लिए है ?
हम जिस स्वतंत्र भारत में रहते है , वो आजभी स्वतंत्र नहीं है , यहां कई जयचंद है , कई औरंगजेब है , और कई फिरंगी भी है। जबतक ये मानस इस धर्म भूमि पर है , तबतक नाही हिन्दू राष्ट्र , वैदिक, अथवा सनातन धर्म की कोरी कल्पना साकार हो पायेगी । जागरण आवश्यक है , आज ही हमे उठना होगा और कुचलनि होगी मुग़ल सोच को , अंग्रजी सोच को, घर घर से सरदार पटेल , भगत सिंह , शिवजी , सुभाष चंद्र बॉस को जागना होगा। आज नहीं कल कभी नहीं आएगा। The independent India that we live in is still not independent, there are many Jaychand, many Aurangzeb, and many Firangi. As long as this psyche is on this land of religion, only the imagination of Hindu nation, Vedic, or Sanatan Dharma will be realized. Awakening is necessary, today we will have to get up and crush Mughal thinking, English thinking, Sardar Patel, Bhagat Singh, Shivji, Subhash Chandra Boss will have to wake up from house to house. Not today, tomorrow will never come.
09:29
November 24, 2020
मेरी है ज़िन्दगी | Meri Hai Zindagi
मेरी है ज़िन्दगी | Meri Hai Zindagi A Beautiful Poem from Kamal Deora  इंसान का जीवन कभी धुप - कभी छाँव है , कभी सुख तो कभी दुःख इसमें यदि हम केवल सुख ही चाहे और दुःख का अस्वीकार करे तो ये सम्भव नहीं। आइये सुनते है ये सुंदर सी कविता जिसे लिखी है।  कमल डेरोराजी ने। The life of a human being is sometimes a shade of joy, sometimes happiness and sometimes sorrow, if we want only happiness and if we reject grief then it is not possible. Let's hear this beautiful poem that has been written. Kamal Deroraji.
03:56
November 21, 2020
बातों बातों में प्यार हो जायेगा। BATON BATON MEIN PYAAR HO JAYEGA
बातों बातों में प्यार हो जायेगा। BATON BATON MEIN PYAAR HO JAYEGA | You will fall in love with things. | is a 1979 Indian romantic comedy film, produced and directed by Basu Chatterjee. The film stars Amol Palekar and Tina Munim in leading roles. David, Pearl Padamsee, Asrani and Ranjit Choudhary appear in supporting roles. | A Beautiful Romantic Song Please Listen
05:47
November 19, 2020
कहीं ना जा आज कहीं मत जा | Kahin Na Ja Aaj Kahin Mat Ja Phir Mile Na |
Hello Listenrs Friends, में आज आपके सामने एक खूबसूरत गीत लेकर आया हूँ।  कहीं ना जा आज कहीं मत जा | Kahin Na Ja Aaj Kahin Mat Ja Phir Mile Na |  Bade Dilwala - 1983 | Late Rishi Kapoor & Teena Munim performed great character in the movie.   Kishor Kumar & Lata Mangeskar Has been Sung this song Covered by Sanglot Sandhya and kumarABHISHEK | Please Listen this Song
05:37
November 13, 2020
इंसान का चेहरा उसके दिल का आईना होता है| A human face is a mirror of his heart.
इंसान का चेहरा उसके दिल का आईना होता है. जो दिल में है वो चेहरे पर नुमाया हुए बग़ैर नहीं रह पाता. और अगर उस चेहरे पर मुस्कुराहट आ जाए तो कहने ही क्या. किसी ने ख़ूब कहा है 'मुस्कुराहट चेहरे का नूर है.' कभी-कभी इंसान का दर्द भी मुस्कुराहट बन कर चेहरे पर आ जाता है, तो कभी यही मुस्कुराहट किसी की खुशी की वजह बन जाती है. एक बच्चे की मुस्कुराहट हमारी सारी चिंताओं को कुछ पलों के लिए दूर कर देती है. A human face is a mirror of his heart. The one who is in the heart cannot remain without a face. And what to say if a smile comes on that face. Someone has said well, 'Smile is the face of Sharpness'. Sometimes a person's pain also comes on the face as a smile, sometimes this smile becomes a reason for someone's happiness. A child's smile removes all our worries for a few moments.
09:42
November 11, 2020
अपने हिस्से का दिया जलाना होगा। Have to burn your lamp
अपने हिस्से का दिया जलाना होगा। Have to burn your lamp इस दिवाली के पुण्य पर्व पर कुछ कविता के द्वारा दीपावली के पर्व को मनाये, आइये हम जीवन के अर्थ को कुछ इस प्रकार से रोशन करे। Celebrate the festival of Diwali with some poetry on the auspicious festival of this Diwali, let us illuminate the meaning of life in this way.
05:60
November 6, 2020
सवा लाख से एक लड़ाऊँ चिड़ियों से मैं बाज़ तडवू।
श्री गुरु गोविंदसिंहजी महाराज -  सवा लाख से एक लड़ाऊँ चिड़ियों सों मैं बाज तड़ऊँ तबे गोबिंदसिंह नाम कहाऊँ – गुरु गोविंद सिंह, ख़ालसा मेरो रूप है ख़ास, ख़ालसा में हो करो निवास । गुरु गोविंद सिंह ने धर्म एवं समाज की रक्षा हेतु ही ख़ालसा पंथ की स्थापना की ।
06:03
September 18, 2020
Osho Ne Kaha Tha . ओशो ने कहा था।
Osho Ne Kaha Tha . ओशो ने कहा था। आदमी  की चिंता यही है कि जहा कुछ भी नहीं ठहरता, वहां वह ठहराने का आदमी आग्रह करता है। अगर मुझे यश है, तो मैं सोचता हूं मेरा यश ठहर जाए। अगर मेरे पास धन है, तो मैं सोचता हूं मेरे पास धन ठहर जाए। अगर मेरे पास जो भी है,  मैं चाहता हूं वह ठहर जाए। अगर मुझे कोई प्रेम करता है, तो मैं चाहता हूं यह प्रेम चिर हो जाए। सभी प्रेमी की यही आकांक्षा है कि प्रेम शाश्वत हो जाए। इसलिए सभी प्रेमी दुख में पड़ते हैं। क्योंकि इस जगत में कुछ भी शाश्वत नहीं हो सकता, प्रेम भी नहीं। यहां सभी बदल जाता है। जगत का स्वभाव बदलाहट है। इसलिए जिसने भी चाहा कि कोई चीज ठहर जाए वह दुख में पड़ेगा।
03:42
September 13, 2020
Kyaa Hua Ik Baat Par Barso Ka Yarana Gaya
क्या  हुआ  इक  बात  पर बरसो का याराना गया - अमित कुमार जी का गया "तेरी कसम " फिल्म का ये इमोशनल गीत  है।  मैंने केवल एक प्रयास किया है अपने स्वर में ढालने का।  आशा करता हूँ मेरा ये छोटा सा प्रयास आपको पसंद आएगा।  धन्यवाद्।  Barso Ka Yarana Gaya on Kya Hua Hua Ek Baat - Amit Kumar Ji's Gaya "Teri Kasam" is an emotional song from the film. I have made only one effort to adjust my voice. I hope you will like this small effort of mine. Thank you.
05:46
September 7, 2020
BEITH JATA HUN MITTI PAR (Hindi Poems)
Talk to Hear ---In this section you can listen  POEMS JUST A FEELINGS.... I am kumar ABHISHEK a Voice over Artist always try to gift you something thrilled and soft touch audiable audio clips, today presenting some  great poets creations  at this platform   
07:20
September 5, 2020
Naa Tum Humei Jano - Hemant kumar
Baat Ek Raat ki - Old Film Song.... Singer - Hemant kumar, Covered by kumarABHISHEK |  https://youtu.be/vqidoSB8nAY
04:57
August 31, 2020
Munshi Itwarilal Aur Bajh Bahu |मुंशी इतवारीलाल और बांझ बहू
सतीश बाबू के कहने पर बाबुलालजी लड़की वालो के लड़का देखने के लिए बुलाते है, इसी समय पंडितजी का बखेड़ा होता है। उनकी लड़की पर बाँझ होने का आरोप आता है। फिर क्या हुआ। देखि अंतिम कड़ी /
11:44
August 26, 2020
Students
Students A Motivational Short Story
06:13
August 25, 2020
एक दिन तुम बहुत बड़े बनोगे एक दिन | Ek Din Tum Bahut Bade Banoge Ek Din
एक दिन तुम बहुत बड़े बनोगे एक दिन | Ek Din Tum Bahut Bade Banoge Ek Din | Artists: Hemlata, Shailendra Singh Movie: Ankhiyon Ke Jharokhon Se Released: 1978 College competitors Lily and Arun gradually fall in love and soon, both their parents approve of their relationship. However, their lives turn upside down when she is diagnosed with leukaemia.
05:24
August 23, 2020
गुफ्तगू प्यार की | Love talk
गुफ्तगू प्यार की | Love talk दो दिलो की बातें कुछ नोकझोंक  तो कुछ प्यार की बातें यहाँ प्रस्तुत  की गई है। वौइस् ओवर है श्री कुमार अभिषेक  Two words of heart, some noises and some things of love are presented here. Mr. Kumar Abhishek is voice over
02:06
August 22, 2020
संतुलित जीवन से ही चित्त को शांति | Peace of mind with a balanced life
एक प्रेरक कहानी जो  जीवन को एक सच्ची राह बताती है।  इ कहानी अमेरिका के एक धनाढ्य व्यक्ति की है जिसने अपने जीवन में केवल पैसे को ही महत्व दिया व्यक्ति या अन्य को नहीं।  अंत में उसे लगा की धन से भी अधिक बहुत कुछ इस जीवन में था , है पर उसे मैंने कभी नहीं चाहा। A motivational story that tells life a true path. This story is about a wealthy American man who only gave importance to money in his life, not to the person or others. In the end he felt that there was more in this life than money, but I never wanted him.
08:37
August 22, 2020
Comedy Act | कॉमेडी नाटक |मुंशी इतवारीलाल और बाज़ बहु |Part-2
https://youtu.be/VbeW0CV7oD4  | Comedy Act | कॉमेडी नाटक |मुंशी इतवारीलाल और बाज़ बहु |Part-2 | पिछली बार हमने देखा के सतीश बाबू अपनी कूटनीति से बाबुलालजी को फंसा लेते है , और बाबुलालजी अपने लड़के का  दूसरा विवाह कराने के लिए राजी हो जाते है , अब आगे देखते है , सुनते है।
06:02
August 21, 2020
हास्य नाटक | comedy act | मुंशी इतवारीलाल और बाज़ बहु
  हास्य नाटक | comedy act | मुंशी इतवारीलाल और बाज़  बहु बाबूलाल: (बड़बड़ाते हुए) एक हजार एक सौ मरतबा समझा गया, पर वाह रे तिरिया! कान पर जूं नहीं रेंगती। सतीश: (आवाज लगाकर) क्या बात है बाबूलालजी, सुबह जल्दी लालटेन हो रहे हो! बैठक में आने वाले या अंदर ही भाषण देते रहते हैं। बबलू: (पास आते हुए) आया सतीश बबलू! भाषण नहीं दे रहा हूँ। अपने कर्म को रो रहा हूँ। लेकिन इस घर में मेरी कोयी सुने, तब न। बताइये, एक हजार एक सौ एक मरतबा कोई बात कहूँ तो उसका असर क्यों नहीं होता। सतीश: वास्तव में यह ताज्जुब की बात है! हजार बार कहने से तो मंत्र से भी सिद्ध हो जाता है। बाबूलाल: आप ही देखिए न सतीश बबलू! मैंने हजार बार अपनी बहू से कह दिया कि सुबह जब मैं तिजोरी खोलकर लक्ष्मीमाया के दर्शन करता हूँ, उस वक्त मेरे सामने न पड़ा था। ‘वह है कि बू बाबूजी चाय’ कह कर छिपकली की तरह सामने कूद पड़ती है। कसम भगवान की, इतना गुस्सा आता है कि मेरे माथे में चाय की केतली उबलने लगती है। सतीश: कमाल है जनाब! कोयी सुबह सुबह चाय न मिलने पर गुस्साता है और आप चाय देखकर भड़कते हैं। बाबूलाल: हॉं मैं भड़कता हंन। मुझे तिजोरी खोलते वक्त बहू का आना कतई पसंद नहीं है। सतीश: क्यों वह तिजोरी पर हाथ साफ करता है। बबलू: जी नहीं! आप तो जानते हैं, साल के साल गुजरते जा रहे हैं, पर उसे कोख फलने का नाम नहीं लेती। घरवाली कहती है कि वह बॉंज़ है। मुहल्लेवाले उसकी छांव बरकाने लगे हैं। ऐसा अशुभ पहलू देखने को मैं ही बचा रहा हूँ। सतीश: अच्छा तो यह बात है। मैंने तब सोचा था कि शायद लड़के-बहू में बनती नहीं है। बाबूलाल: बनती क्यों नहीं। हे सतीश भैया, बनती तो ऐसी है कि गुड़ और चींटा माँ खा जाए। पर भैया, ऊसर में कहीं दूब जमती है। मेरी ऑख तरस बन गई चांद से पोते का मुंह देखने के लिए। वह दिन आता है तो मैं क्या नहीं करता। (लम्बी सांस भरकर) पर किस्मत को क्या कहूँ। सतीश: (जोश में) आप भी बाबूलाल जी, मर्द हो कर किस्मत का रोना रोते हैं। जो किस्मत पर काबू न पाया, वह भी कोयी इंसान है। बहू बांज़ निकल गयी तो उसका क्या रोना। हुमक कर लड़के की दूसरी शादी कर डालिये। देखिये, एक लड़की मेरी निगाह में है। बाबूलाल: यही तो रोना है सतीश बाबू! लड़के पर अपना ओवर जो नहींहैं। वह दूसरी शादी की बात सुनकर ऐसे मौनी बाबा बन जाती है गोया मुंह में भाषण ही न हो। सतीश: वाह बबलूजी! आप क्या लड़के को अनिश्चित समझ रहे हैं, जो वह आपके सिर पर चढ़कर हामी भर देगा। आप शादी का डॉल तो बैठाइये। बाबूलाल: क्या डारुल बैठाऊं! ऐसे में कौन भला आदमी ऑंख मूंदकर लड़की देगा। पड़ोसी हैं, समाज है और सबसे ऊपर मुंशी इतवारी लाल की लताड़ का डर है। सतीश: देखिए बाबूलालजी, समाज और मुंशी इतवारीलाल को तो अपने अंग पर रखिये। रही लड़की की बात, सो मेरी निगाह में तुम्हारी बिरादरी की ही एक लड़की है। रूप-गुण में लक्ष्मी है, पर हॉन्, जरा गरीब है। बाबूलाल: (उत्सुकता से) ऐसा। तो फिर देर क्या है सतीश बाबू! नेकी और पूछ पूछ। तुम बात क्यों नहीं चलाते सतीश: बात तो पक्की ही समझ में आती है। बस, आप एक बार चलकर लड़की देख ली रहें। लड़की क्या है, कच्चे दूध का कटोरा समझिये। बाबूलाल: तो चलिए, आज ही चलता हूँ। सतीश: चलिए, एक बात समझ लीजिये। लड़की गरीब घर की है, इसलिए कुछ मिलने का डौल नहीं है। बाबूलाल: आप मुझे क्या पैसा का लालची समझते हैं। सतीश: नहीं, मैं तुम्हें साधु समझता हूँ। पर बात पहले पहले ही साफ कर लेना अच्छा रहता है। और हॉं, अच्छी बहू के लिए अगर आपका कुछ रुपया खर्च हो जायें, मेरा मतलब है - गरीब लड़की वाले की कुछ मदद करनी पड़े तो आप तैयार हैं। बबलू: (आश्चर्य से) जी …… .ई …… ई ………। आप करेंगे तो वह भी करेगा। सतीश: (अकड़ कर) मैं कुछ नहीं चाहता। मैं तो सिर्फ दोस्तों की मदद और खिदमत करना चाहता हूँ। पर घर करते हाथ जलते हैं, इसलिए सारी बात दो टूक कह दी। नहीं तो बाद में आप मुंशीजी के सामने रोना रोने लगें। बाबूलाल: मुंशीजी को छोड़ दो सतीश बाबू! वे तो हमेश लेक्चर झाड़ते रहते हैं। सातवें आसमान से बातें करते हैं। उन्हें कभी आदमी की कसक नहीं सालती। मैं इस बारे में उन्हें बताना नहीं चाहता।
06:42
August 20, 2020
आचार्य चाणक्य | Acharya Chankya |kumarABHIshek (voice over)
https://youtu.be/cMs4UNldwZU | आचार्य चाणक्य | Acharya Chankya |kumarABHIshek (voice over) 
07:35
November 15, 2019
Poem
In the title of this poem, you will get a glimpse of Gujarati poetry.
03:06
August 10, 2019
YE KAHAN AA GAYE HUM - kumarABHIshek (voice over)
where have we come. ..... Sitting in the song of Silsila, Lataji has given voice to Sania in this track, I have given my voice instead of Amitabh ji.ये कहाँ आ गए हम। ..... सिलसिला फिल्म के गीत को गाया  था लताजी ने इस ट्रैक में सानिया श्री ने अपनी आवाज़ दी है , अमिताभ जी की जगह मैंने  अपनी आवाज़ दी है। 
06:45
July 17, 2019
Rishton ka Mulyankan
बदलते दौर के साथ ज़िन्दगी भी बड़ी तेजी से बदल रही है। जीने के तौर तरीके भी बदल गए है। 
13:41
July 16, 2019
Kai Baar Yun bhi dekha hai
 Hi Friends! Today I am uploading "Kai Baar Yuhi Dekha Hai" This one recorded recently to improve my singing. Please listen to it and if like leave your comment Category Music Music in this video Learn more Listen ad-free with YouTube Premium Song Kayin Baar Yun Bhi Hai Artist INSTRUMENTAL Album MUKESH VOL-3 Licensed to YouTube by saregama (on behalf of Vale Entertainment Ltd); Saregama PublishingSHOW LESS  
04:49
April 18, 2019
Main Aur Meri Tanhai Aksar ye Batein Karte hain
ये शायरी "सिलसिला " फिल्म से संलग्न है। ज़रूर सुने
03:58
March 25, 2019
KHEL (Jeevan Ek KHEL)
This is short Episode Welcome you all
10:24
March 25, 2019
Dil mei Sanam ki Surat
Dear Listeners Welcome you 
06:26
March 25, 2019
JEEVAN EK KHEL
मेरे प्यारे श्रोतागण  मैं आपका प्यारा  दोस्त  कुमार अभिषेक (वौइस् ओवर आर्टिस्ट) आपलोग मुझे सुनते हैं इसके लिए धन्यवाद् , आज से शुरू होता एपिसोड का विषय हैं  " जीवन एक खेल " दोस्तों क्षमा करे ये मेरी मातृ भाषा गुजराती में हैं , मैं कोशिश करूँगा इसे हिंदी में रूपांतरित करने की फिलहाल , ये गुजराती में हैं , ये भाषा इतनी कठिन नहीं हैं , इसके कुछ शब्द हिंदी जैसे ही है।   जीवन एक खेल के साहित्यकार - कुंदनिका कपाडिया हैं  इस में चेतन मन और अवचेतन मन की बात को कही गई हैं।  हम क्यों विफल होते है ? हम कैसे सफल होते हैं।  ये  रहस्य को उजागर करनेवाली बात यहाँ प्रस्तुत की गई हैं।  मैं इसे जिवंत बनाने के लिए अपनी आवाज़ से कोशिश करूँगा।  धन्यवाद् 
10:24
March 18, 2019
ye kahan aa gaye hum
https://youtu.be/whj5fmubYao you can find a great tune by this music https://www.youtube.com/dashboard?o=U | Wel come to Great talent voice over
03:55
August 25, 2018
Suvichar|सुविचार|hindi suvichar |kumar abhishek
https://youtu.be/qzpkAz8ZfTI Suvichar|सुविचार|hindi suvichar - जीवन में लक्ष्य का होना ज़रूरी क्यों है ?यदि आपसे पूछा जाये कि क्या आपने अपने लिए कुछ लक्ष्य निर्धारित कर रखे हैं तो आपके सिर्फ दो ही जवाब हो सकते हैं: हाँ या ना .अगर जवाब हाँ है तो ये बहुत ही अच्छी बात है क्योंकि ज्यादातर लोग तो बिना किसी निश्चित लक्ष्य के ही अपनी ज़िन्दगी बिताये जा रहे हैं और आप उनसे कहीं बेहतर स्थिति में हैं. पर यदि जवाब ना है तो ये थोड़ी चिंता का विषय है. थोड़ी इसलिए क्योंकि भले ही अभी आपका कोई लक्ष्य ना हो पर जल्द ही सोच-विचार कर के अपने लिए एक लक्ष्य निर्धारित कर सकते हैं.लक्ष्य या Goals होते क्या हैं? लक्ष्य एक ऐसा कार्य है जिसे हम सिद्ध करने की मंशा रखते हैं कुछ उदाहरण लेते हैं: एक विद्यार्थी का लक्ष्य हो सकता है: अंतिम परीक्षा में 80% से ज्यादा अंक लाना.” एक कर्मचारी का लक्ष्य हो सकता है अपनी कार्य के आधार पर पदोन्नति पाना. एक गृहिणी का लक्ष्य हो सकता है :” घर बैठे कोई व्यवसाय करना. एक blogger का लक्ष्य हो सकता है:” अपने ब्लॉग की page rank शुन्य से तीन तक ले जाना” एक समाजसेवी का लक्ष्य हो सकत
06:04
August 21, 2018
Adatan tumne kar diye
This is Hindi Poem in voice of TRUPTI
00:30
August 18, 2018
Ekant to mann ka hain
एकांत क्या हैं , ये किस अवस्था का नाम हैं। ये सारि बातें यहाँ प्रस्तुत हैं। What is solitary, what is the name of this state? All these things are presented here.
18:03
August 18, 2018
What is Digital Marketing|डिजिटल मार्केटिंग (हिंदी )
What is Digital Marketing|डिजिटल मार्केटिंग (हिंदी )Great Graphics welcomes you | Namskar dosto डिजिटल मार्केटिंग को समझने से पहले मार्केटिंग क्या हैं ये समझना होगा, मार्केटिंग एक ऐसी प्रक्रिया(एक्टिविटी है) हैं जो ग्रुप ऑफ़ कस्टमर के बिच में होती हैं, प्रोडक्ट और सर्विसेज को अलग अलग माध्यम के द्वारा promot किया जाता हैं। मार्केटिंग के अलग अलग तरीके हैं जैसे रेडियो , टेलीविज़न , न्यूज़ पेपर इत्यादि इसके अलावा , हमे ग्राहकोकि ज़रूरतों को समझना पड़ेगा। उसके अनुसार हमें अपनी उत्पाद को बढ़ाना और आगे लेजाना होता हैं। उत्पाद को उस सम्बंधित ग्राहकों तक पहुचाये जिसकी उन्हें तलाश हैं। अगर हम हमारे ग्राहकों और उसकी ज़रूरतों तक पहुंच पाते हैं तो हम अच्छी तरह मार्केटिंग कर पाते हैं। एक कंपनी को ये जानना ज़रूरी होता हैं की वो सिर्फ इतना ना जाने की उसके ग्राहक को क्या नहीं मिला ? पर ये भी जाने की उसे क्या मिल रहा हैं ? तभी वो कंपनी मार्किट में टिक सकती हैं। आज डिजिटल मार्केटिंग ने मार्किट का पूरा हुलिया ही बदल दिया। । सिर्फ अच्छी प्रोडक्ट और सर्विसेज ही पर्याप्त नहीं हैं। ये भी जानना ज़रूरी है
08:10
August 14, 2018